Skip to main content

क्या एनजीओ वाली लड़कियां बड़ी चालाक होती हैं?

बेटा ये एनजीओ वाली लड़किया बड़ी चालाक होती हैं। जरा बच कर रहना है। यह चेतावनी मुझे पिछले दिनों मिली है। चेतावनी देने वाली हमारी नई मकान मालकिन हैं। भोपाल के शाहपुरा का यह घर है फिलहाल पर है। एंडवास किराया लेने के बाद हमारी मकान मालिक ने जब मुझे चेताते हुए एनजीओ वाली चेतावनी दी थी तो मुझे मुस्कुराना पड़ा। इसकी भी वजह थी। वजह यह थी कि राजस्थान में कई साल जन आंदोलन को देने के साथ मैने एनजीओ को बड़े करीब से देखा है। एनजीओ वाली लड़किया चालाक नहीं बल्कि अपने अधिकारों को लेकर जागरुक रहती हैं। बस यही बात मकान मालिकन को अटक रही है। खैर आशंका है कि कुछ दिनों बाद एनजीओ वाली लड़कियों को मकान छोड़ना पड़ सकता है। क्योंकि वे बहुत चालाक होती हैं।


मसक कली मटक कली

बॉलीवुड में प्रयोग तो आए दिन होते रहते हैं। लेकिन इन दिनों जो प्रयोग हो रहे हैं वे वाकई शानदार हैं। जरा दिल्ली -६ फिल्म को ही देख लिजीए। फिल्म के सभी गाने दिल को छुने वाले हैं। इस फिल्म का अधिकांश हिस्सा जयपुर के पास सांभर कस्बे में फिल्माया गया है। निर्देशक से लेकर पूरी टीम तक ने सांभर को चांदनी चौक में तब्दील करने में कोई कमी नहीं रखी है। खैर फिल्म में एक गाना है मसाक कली मटक कली। शानदार गाना है। जबकि टीवी पर देखता हूं और सुनता हूं तो सभी काम छोड़ना पड़ता है। सोनम का कबूतर वाकई मसाक कली है। फिल्म में अभिषेक और सोनम के साथ कई दिग्गज कलाकार मौजूद हैं।

ओबामा से पामेला तक

इन दिनों भोपाल में हूं। इंदौर से ट्रांसफर के बाद भास्कर डॉट कॉम में मेरी सेवाएं ली जा रही हैं। वेब में काम करने का सबसे बड़ा फायदा जो मुझे नजर आ रहा है, वह यह है कि आपकी नजर दुनिया भर की हलचलों पर रहती है। मसलन ओबामा साहेब क्या कर रहे हैं? पामेला और ब्रिटनी के क्या जलवा हैं। साथ में दिल्ली से लेकर बैतुल तक में क्या चल रहा है। मैं तो अपनी इस नई जिम्मेदारियों का मजा उठा रहा हूं। आप बताएं आप क्या कर रहे हैं।

Comments

आशीष, हम तो कुछ दे नही रहे बस ओबामा से पामेला तक आपको पढ़ रहे है।
आशीष जी हम भी आपकी आँखो से मजा लूट रहे है। आपकी पोस्ट देखती है तो दोडे चले आते है।
सुनी सुनाई सारी बातें सच नही होती..डेल्ही-६ के दो ओर गीत खास है .तू है....उनमे से खास ......देव डी का एक गाना परदेसी भी सुनिए अपने स्टाइल का खास है
poemsnpuja said…
जिन्हें अपने हक का अंदाजा हो और उसे लेने में न कतराएं ऐसे लोगो से सभी को डर लगता है, इनके लिए कई विशेषण भी इजाद किए गए हैं...कुछ इसलिए ही कहा होगा आपकी मकान मालकिन ने.
poemsnpuja said…
This comment has been removed by the author.
bhawna said…
aap aapki makaan malkin ko unke bete/bhaai sarikhe lage honge isliye unhone aisa kaha hoga ya shayad unka koi anubhav raha ho , aap sirf muskarae ye aapne sahi kiya .
ये अपने समाज का सच है कि अपने अधिकारों के लिए लड़ने और जागरुक रहनेवाली स्त्रियां यहां पसंद नहीं की जाती।
bas bhai naukri
aur kaya

TU bata shadi kab kar raha hai
Aapne Makaan Malkin ki baat ki to mujhe bhi pichle dino hua ek vakya yaad aa aya. use likhkar blog per add karta hun. shukriya aapka
samuela said…
Bahut achchhha likhte hain aap,Bhopal me mai bhi reh chuki hun,Blog padh k wahan ki yaad aagai.

Apka blog pehli baar visit kiya he & i hope i ll visit it again to read ur next post.

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…