Skip to main content

प्रद्युम्न तुम्हारे कत्ल के लिए हम भी जिम्मेदार हैं

प्रिय प्रद्युम्न, 

तुम जहां भी हो, अपना ख्याल रखना। क्योंकि अब तुम्हारा ख्याल रखने के लिए तुम्हारे मां और पिता तुम्हारे साथ नहीं हैं। हमें भी माफ कर देना। सात साल की उम्र में तुम्हें इस दुनिया से जाना पड़ा। हम तुम्हारी जान नहीं बचा पाए। तुम्हारी मौत के लिए रेयान इंटरनेशनल स्कूल का बस कंडक्टर ही नहीं, बल्कि हम सब भी जिम्मेदार हैं। आखिर हमने कैसे समाज का निर्माण किया है, जहां एक आदमी अपनी हवस को बुझाने के लिए  स्कूल का यूज कर रहा था। लेकिन गलत वक्त पर तुमने उसे देख लिया। अपने गुनाह को छुपाने के लिए इस कंडक्टर ने चाकू से तुम्हारा गला रेत कर कत्ल कर देता है। हम क्यों सिर्फ ड्राइवर को ही जिम्मेदार मानें? क्या स्कूल के मैनेजमेंट को इसलिए छोड़ दिया जा सकता है? हां, उन्हें कुछ नहीं होगा। क्योंकि उनकी पहुंच सत्ताधारी पार्टी तक है। प्रिय प्रद्युम्न, हमें माफ कर देना। हम तुम्हें कभी इंसाफ नहीं दिलवा पाएंगे। क्योंकि तुम्हारे रेयान इंटरनेशनल स्कूल की मालिकन सत्ता की काफी करीबी हैं। मैडम ने पिछले चुनाव में अपने देशभर के स्कूलों में एक खास पार्टी के लिए मेंबरशिप का अभियान चलाया था। जिसमें स्कूल के टीचर्स से लेकर अभिभावक तक को जबरन पार्टी की मेंबरशिप दिलाई गई थी। जिसके लिए उनकी काफी आलोचना भी हुई थी। हमें माफ कर देना प्रद्युम्न।

जिस मुल्क में एक महिला पत्रकार की मौत पर लोग जश्न मनाएं। गौरी लंकेश को गालियां दें और उसके लिए आपत्तिजनक भाषा बोलें, उस देश में तुम्हें कहां इंसाफ मिल पाएगा प्रद्युम्न। पिछले कुछेक सालों में देश का मिजाज काफी बदल गया है। कहीं गाय के नाम पर कत्लेआम हो रहा है तो कहीं भारत माता के नाम पर सरकार की आलोचना करने वालों को निशाना बनाया जा रहा है। इसके बावजूद हमारे जैसे लोग सत्ता की आंखों में आंखे डालकर सवाल पूछने का साहस कर रहे हैं। सिर्फ इसलिए ताकि हमारे बच्चों का भविष्य सुरक्षित रहे।

खैर, आज तुम्हारी ही बात करते हैं। मां ने कितने अरमान से तुम्हें तैयार कर स्कूल भेजा था। बस इस उम्मीद के साथ कि तुम पढ़लिखकर अपने खानदान का नाम रोशन करोगे। तुम तो चले गए लेकिन तुम्हारी मां का रो रोकर बुरा हाल है। पिता तो पिता होते हैं। दर्द उन्हें भी है तुम्हें खोने का। लेकिन उनके आंसू सूख गए हैं। वो यदि कमजोर हो गए तो तुम्हारी मां को कौन संभालेंगा? इसलिए वो चाहकर तुम्हारे जाने का मातम नहीं मना सकते हैं। आज प्राइवेट स्कूल चलाना सबसे फायदे का धंधा है। शिक्षा के नाम पर गली मोहल्लों से लेकर हर इलाके में स्कूल खुल गए हैं। इन स्कूलों को ज्यादा से ज्यादा फायदा पहुंचाने के लिए सरकारें जानबूझकर सरकारी स्कूलों का स्तर गिराती जा रही हैं। क्योंकि यदि सरकारी स्कूलों का स्तर अच्छा हो गया तो इन निजी स्कूलों में हमारे जैसे अभिभावक अपने बच्चों को क्यों भेजेंगे? अब वक्त आ गया है कि जनता खुद आगे बढ़कर सरकार और निजी स्कूलों की जिम्मेदारी तय करे। वरना इसकी कीमत हमारे बच्चों को उठानी पड़ेगी।

(आशीष महर्षि युवा पत्रकार हैं। फिलहाल में वे भोपाल में एक मीडिया संस्थान में कार्यरत हैं।)

Comments

Popular posts from this blog

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं?

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं? इसका जवाब कोई नहीं ढूंढना चाहता। दिल और दुनिया के बीच हर इंसान कहीं न कहीं फंसा हुआ है। मौत आपको आकर चूम लेती और हम दिल और दुनिया के बीच में फंसे रहते हैं। बहुत से लोगों को इसका अहसास तक नहीं होता है कि वो क्या करना चाहते थे और क्या कर रहे हैं। बचपन से लेकर जवानी की शुरूअात तक हर कोई एक सपना देखता है। लेकिन पूरी दुनिया आपके इस सपने के साथ खेलती है और ए‍क दिन हम सब दुनिया के बहाव में बहने लगते हैं। जिस दुनिया में हम अपने हिसाब से जीना चाहते हैं, वहां दुनिया के हिसाब से जीने लगते हैं। यह समाज, यह दुनिया आपके अंदर के उस शख्स को मारने के लिए जी जान से लगी रहती है। बहुत कम लोग होते हैं जो अपने हिसाब से, अपनी खुशी के लिए जीते हैं। हर कोई कहीं न कहीं दिल और दुनिया के बीच में फंसा हुआ है। मैं भी फंसा हुअा हूं और आप भी।