Skip to main content

मीडिया - मैसेज - सेक्स

उन दोनों की मुलाकात हुए कुछेक ही महीने हुए थे। लेकिन इन कुछेक महीनों में वे कुछ अधिक करीब आ गए थे। लड़की यूनिवर्सिटी में पढ़ती थी तो लड़का वहां ग्रेड टू का कर्मचारी था। उसकी डच्यूटी यूनिवर्सिटी की लायब्रेरी में थी। जहां वह अक्सर किताबों के बहाने उसे देखने के लिए आती रहती थी। लायब्रेरी की रैक से किताबें निकलती थीं। पन्ने पलटे जाए जाते थे। लेकिन नजरे सामने बैठे उस ग्रेेड टू के कर्मचारी पर होती थी। वह कर्मचारी भी उसके आने के बाद कुछ अधिक ही सक्रिय हो जाता था। स्टूडेंट्स को लेकर चपरासी पर रौब झाड़ने का कोई मौका वह नहीं छोड़ता था। वे दोनों एक दूसरे की जरूरतों को पूरा कर रहे थे।

बसंत के बाद यूनिवर्सिटी में नया बैच आया। वह अब सीनियर्स बन गई थी। लेकिन वह लड़का अभी सेकेंड ग्रेड का ही कर्मचारी था। नए बैच में कुछ खूबसूरत लड़कियों के साथ कुछ पैसे वाले लड़के तो कुछ गांव से पहली बार निकले लड़के भी आए थे। बंसत के साथ अब सबकुछ बदल गया था। अब सेकेंड ग्रेड का कर्मचारी और उस लड़की में कुछ भी पहले जैसा नहीं था। स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही थी। कल तक जिस लड़की को वह अपनी सेकेंड हैंड स्कूटर पर बैठाकर उसके घर तक छोड़ने जाता था, अब स्कूटर की जगह एक नई बाइक आ चुकी थी। और सेकेंड ग्रेड कर्मचारी की जगह एक खूबसूरत लड़का आ गया था।

स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही थी। लड़की का चयन एक मीडिया कंपनी में हो चुका था। वह अब प्रोडच्यूसर थी। तरक्की लगातार उसके कदम चूमी जा रही थी। जबकि यूनिवर्सिटी का वह नौजवान अभी भी दिल्ली में नौकरी के लिए धक्का खा रहा था। दोनों में अब सबकुछ खत्म हो चुका था। एक रात उस लड़के ने फोन किया। काफी रिंग के बाद जब लड़की ने फोन उठाया तो स्थिति और बिगड़ गई थी।

लड़का - कैसी हो तुम?
लड़की- मैं अच्छी हूं और तुम?
लड़का- मैं भी ठीक हूं।
इसके बाद एक लंबी और गहरी खामोशी...
लड़की - कुछ बोलोगे?
लड़का -क्या बोलूं?
लड़की - कुछ भी।
लड़का - मैं तुमसे प्यार करता हूं और तुम्हारे बिना नहीं रह सकता हूं।
लड़की - हम क्या इस विषय को छोड़कर और किसी विषय पर बात नहीं कर सकते हैं?
लड़का - मैं तुमसे बेपनाह मोहब्बत करता हूं।
लड़की - मैं फोन रख रही हूं।
ठक्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्
और इसकी के साथ वह फोन रख देती है। दूसरी ओर लड़का काफी देर तक सोचने की कोशिश करता है लेकिन दिमाग साथ नहीं दे रहा था। वह पूरी तरह नशे में डूब चुका था।

लड़की कुछ अधिक समझदार थी। फिलहाल दिल्ली के राष्ट्रीय चैनल में तरक्की पर तरक्की पाए जा रही थी। मीडिया में चर्चा थी। वह आजकल मिस्टर झा की खास हैं। देखते देखते वह चाय की दुकान से लेकर मीडिया संस्थान तक में चर्चा का विषय बन गई थी। बात उसके कानों तक गई तो उसे विश्वास नहीं हुआ कि यह सब क्या हो रहा है। लड़की के दिमाग की नसें फटी जा रही थी। वह पुराने दिनों में लौट जाती है। उसे याद है जब वह पहली बार उस संस्थान में नौकरी के लिए आई थी।

वहां अपने बायोडाटा को छोड़ने के बाद वह जैसे ही सीढ़ियों से नीचे उतर रही थी तो कालेज के वह प्रोफेसर उससे ठकरा गए,जो अक्सर पढ़ाने आया करते थे। दोनों की नजरें मिली। उसे कहा, गुड आफ्टर नून सर..वह पलट कर देखा। कुछ याद आया। हां वह तो उस यूनिवर्सिटी की सबसे चंचल लड़की की जहां वह पढ़ाने जाया करता था। क्लास के बाद अक्सर वह लड़की काफी देर तक उससे बातें किया करती थी।उसे नौकरी मिल चुकी थी। और देखते देखते यूनिवर्सिटी से लेकर दिल्ली और फिर अन्य कस्बेनुमा शहर में वह चर्चा का विषय बन चुकी थी। इस बात का अहसास उसे भी नहीं था। वह बस अति महत्वाकांक्षा थी।

एक शाम उसकी मुलाकात अपने पुराने प्रेमी से हुई। हां वही यूनिवर्सिटी वाला कथित प्रेमी। दोनों काफी देर तक काफी हाउस में बैठकर बतियाते रहे। शाम सुरमई होती जा रही थी। अचानक लड़के के मोबाइल पर एक एमएमएस आया। उसने जब एमएमएस देखा तो उसकी आंखों में आंसू आ गए। एमएमएस में उसके साथ बैठी उसकी प्रेमिका थी और साथ में कौन था.. वह अच्छी तरह जानता था। वह मीडिया जगत का एक जाना पहचाना नाम था। खैर कहानी अभी खत्म नहीं हुई। वह लगातार रोया जा रहा था। अचानक लड़की के मोबाइल पर भी एक एमएमएस। अब वह बिलख बिलख कर रो रही थी। अगले दिन वे दोनों खुद ही खबर बन चुके थे। दोनों की लाश लक्ष्मी नगर के एक फ्लैट से मिली। दोनों ने नींद की गोलियां खा ली थी।

Comments

Arvind Mishra said…
वाह जबरदस्त रियलिस्टिक फिक्शन -एक मिलती जुलती कथा अभी घटित ही हुयी है -शुक्र है वह इतनी दुखांत नहीं बनी ! रील और रीयल का यही फर्क भी है !
क्या कहूँ आशीष जी कुछ कहते नही बन रहा।
बस कहानी में एक कमी रह गई दोस्त .नींद की गोलियों से कोई नही मरता चाहे ५० खा लो...बाकी आपने जो संदेश देने की कोशिश की है वो पहुँच गया है...
cmpershad said…
तो अंत बदल देते हैं:) कुछ इस तरह:-
जैसे ही पता चला कि दोनों ने नींद की गोलियां खाई है तो डॉ. अनुराग को फोन किया गया। उनके उपचार से दोनों की जान बच गई। इसी बहाने दोनों डॉ. सा’ब के अस्पताल में मिलते रहे....और फिर हैप्पी एन्डिंग:)
आप को याद होगा कि आह फिल्म में हीरो मर जाता है तो लोगों ने पसंद नहीं किया था तो अंत बदल कर उसे जीवित रखा गया और हिरोइन से मिला दिया गया था।
Anil Pusadkar said…
आज की ज़िंदगी मे तरक्की के शार्ट-कट की इससे अच्छी तस्वीर कोई और हो ही नही सकती।सलाम करता हूं आपको।
ऐसी ही एक मिलती जुलती कहानी हाल में मीडिया जगत में घटी है लेकिन उसका अंत ऐसा नहीं है जो तुम्‍हारी कहानी में हुआ है। तुमने तो पात्रों को मार ही दिया। मीडिया हो या अन्‍य जगत ऐसा सब जगह होता है। प्‍यार और महत्‍वाकांक्षा के प्‍यार में अंतर रहता है। कई लड़कियां अपने कैरियर के लिए महत्‍वाकांक्षा प्‍यार करती है और इसमें सीढी दर सीढी चढ़ने के लिए प्‍यार वाले पात्र बदलते जाते हैं। जैसे जैसे प्‍यार आगे बढ़ता है कैरियर आगे बढ़ता है। लेकिन अगर कुछ कह दो तो यह पर्सनल लाइफ में हस्‍तक्षेप हो जाता है। यदि चर्चा कर दो तो बात ऐसी कर देगी जैसे वही सती सावित्रि हैं। बेहद नाटक और नाटकीय प्‍यार होते हैं ऐसे। लड़कियां भी लड़कों को यूज एंड थ्रो करती है जो कहती हैं वे ऐसा नहीं करती वे इसी ब्‍लॉग पर बहस के लिए तैयार हो जाएं।
samuela said…
Ashish bahut achchhi kahani he,
very well written,if it is a friction.
And very well present if it's a real story.
Conngr8s..
samuela said…
This comment has been removed by the author.
Anonymous said…
Sir jee...waah kya baat hai.

bahut sundar rachna hai, main aapki rachnadharmita ka kaayal hun...ise aur bhi aaye badhayein...
Sir jee...waah kya baat hai.

bahut sundar rachna hai, main aapki rachnadharmita ka kaayal hun...ise aur bhi aaye badhayein...
Achchii Kahani Buni hai...sirf kissaa hi nahi lagataa.. kaee baar yah sach hota bhi dikhataa hai. Hamare aas-paas me ho rahe Absurd ka postmrtem hai.

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…