Skip to main content

कभी रुलाती कभी गुदगुदाती यादें


वह एक अजीब सुबह थी। नींद ने कब साथ छोड़ दिया, पता नहीं। आंखों से नींद गायब हो चुकी थी। वहां अब पुरानी यादें तैर रही थीं। ये यादें स्मृतियों से होते हुए दिल तक पहुंच गईं। 28 बरस मेरे सामने थे। बचपन से लेकर अब तक का सबकुछ आंखों के सामने घूम रहा था। बनारस की संकरी गलियों से होता हुआ अब राजस्थान के रेगिस्तान में खड़ा था। चारों तरफ अजीब-सी बेचैन कर देने वाली खामोशी थी। बैकग्राउंड में केसरिया बालम पधारो नी म्हारे देस की धुन सुनाई दे रही थी। यादों की संकरी गलियां आ-जा रही थीं।

कई बार यादें खुशी देती हैं तो कई बार रुला भी देती हैं। यादें तो यादें हैं, उनका क्या? यदि आप भावुक हैं तो यादें ज्यादा परेशान करती हैं। यादें किसी भी घटना, व्यक्ति या संबंध से जुड़ी होती हैं। उस चीज से जितना अधिक मोह, यादें भी उतनी गहरीं। कभी मैं अपने बचपन के शहर बनारस की यादों में खो जाता हूं तो कभी उस प्यार की यादों में, जिसे मैंने मंजिल से पहले ही छोड़ दिया। कभी उस बाघिन की यादों में खो जाता हूं, जो मुझे बांधवगढ़ के जंगलों में मिली थी। बस यादें ऐसी होती हैं। कभी-कभी मैं उनकी यादों में खो जाता हूं, जो कभी मेरे सबसे करीब थे। क्या कभी पुराने जमाने के फोटो एलबम को पलटते हुए आप यादों के संसार में लौटे हैं? इसका अपना एक अलग ही अनुभव है। यादें कुलबुलाती हैं। शरीर से लेकर रूह तक छा जाती हैं। पिछले दिनों पुरानी तस्वीरें देखते-देखते मैं न जाने कहां-कहां घूम आया। वाकई यादों का कोई जोड़-तोड़ नहीं है। यादें मोबाइल फोन पर भी आपको कुलबुला सकती हैं। यहां तक कि आपके इनबॉक्स में पड़े कई साल पुराने मैसेज भी आपको उस दुनिया में ले जा सकते हैं।

कभी आप अपने उन दोस्तों के पुराने ईमेल पढ़िए, जो आपके सबसे करीब थे। दिल को बहुत सुकून मिलता है। मैंने अपने उन दोस्तों के ईमेल और तस्वीरें आज भी संभालकर रखी हैं, जो अब दूर हो गए हैं। बस इस उम्मीद के संग कि जिंदगी के किसी भी मोड़ पर उनसे मुलाकात हो तो उनके साथ मैं इन्हें शेयर कर सकूं। कई बार बॉलीवुड की फिल्में भी आपको यादों की दुनिया में ले जाती हैं। अक्सर फिल्मों में मैं खुद को और अपनों को खोजता हूं। किसी न किसी किरदार में जब वह मिल जाता है तो फिर यादों का लंबा सफर शुरू हो जाता है। मसलन नगीना फिल्म हमेशा मुझे बचपन के दिनों में ले जाती है, जब पूरे इलाके में सिर्फ हमारे यहां ही रंगीन टीवी और वीसीआर लाकर पूरी रात तीन फिल्में देखी जाती थीं। वह उत्सव की रात होती थी। परिवार के तमाम सदस्य हों या आसपास के लोग, सब छत पर जुटते थे। तीन फिल्मों का भी अपना अलग ही तर्क था। सौ रुपए में वीसीआर और तीन फिल्मों का पूरा पैकेज आता था। सुबह वह वापस चला जाता था।

कई बार ऐसा भी हुआ करता था कि दो फिल्में रात में और एक सुबह जल्दी उठकर पूरी करनी होती थी। अक्सर यह शनिवार की रात हुआ करती थी। कई बार खबरें भी आपको पुरानी यादों में ले जाती हैं। जब भी मैं ऑनर किलिंग की खबरें पढ़ता हूं तो मुझे अपने उस प्यार की याद सताने लगती है, जो मेरे लिए सबकुछ छोड़कर पूरी दुनिया से लड़ने के लिए तैयार थी। लेकिन मैं गलती कर बैठा। आज बस उसकी यादें ही साथ हैं। ऐसी न जाने कितनी यादें मुझे तंग कर रही हैं।

कभी ये यादें ख्वाबों में तो कभी खुद साक्षात प्रकट होती हैं। लोग चले जाते हैं, लेकिन उनकी यादें रह जाती हैं। कुछ लोग कहते हैं कि याद उन बातों को किया जाता है, जिन्हें हम भुला देते हैं। लेकिन मुझे तो हर बात याद है। क्या आपको याद है? मैं यादों के समंदर से निकलने की कोशिश कर रहा हूं, लेकिन उसमें धंसता जा रहा हूं।

Comments

vivek kumar said…
good
आदमी को हमेशा पॉजिटिव होना चाहिए.
स्स्स
बिमारियों में नहीं, विचारों में....
vivek kumar said…
good
आदमी को हमेशा पॉजिटिव होना चाहिए.
ssss
बिमारियों में नहीं विचारों में....

Popular posts from this blog

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं?

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं? इसका जवाब कोई नहीं ढूंढना चाहता। दिल और दुनिया के बीच हर इंसान कहीं न कहीं फंसा हुआ है। मौत आपको आकर चूम लेती और हम दिल और दुनिया के बीच में फंसे रहते हैं। बहुत से लोगों को इसका अहसास तक नहीं होता है कि वो क्या करना चाहते थे और क्या कर रहे हैं। बचपन से लेकर जवानी की शुरूअात तक हर कोई एक सपना देखता है। लेकिन पूरी दुनिया आपके इस सपने के साथ खेलती है और ए‍क दिन हम सब दुनिया के बहाव में बहने लगते हैं। जिस दुनिया में हम अपने हिसाब से जीना चाहते हैं, वहां दुनिया के हिसाब से जीने लगते हैं। यह समाज, यह दुनिया आपके अंदर के उस शख्स को मारने के लिए जी जान से लगी रहती है। बहुत कम लोग होते हैं जो अपने हिसाब से, अपनी खुशी के लिए जीते हैं। हर कोई कहीं न कहीं दिल और दुनिया के बीच में फंसा हुआ है। मैं भी फंसा हुअा हूं और आप भी।

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है