Skip to main content

UP POLL 2017 : काम बोलता है...

यूपी से लौटकर आशीष महर्षि
यदि आप यूपी से बाहर बैठकर यहां के चुनाव को लेकर कोई अंदाजा लगा रहे हैं, तो हो सकता है कि आपका अंदाजा गलत हो। यूपी पहुंचने से पहले तक अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे ऐसा लग रहा था कि यूपी में इस दफा भाजपा सरकार आ सकती है। लेकिन लखनऊ पहुंचते-पहुंचते मेरी सोच करवट लेने लगी। जमीनी हकीकत मेरी सोच से एकदम उलट रही। लखनऊ, गोरखपुर, बनारस, इलाहाबाद जैसे प्रमुख शहरों में घूमने के बाद यह बात दावे के साथ कह सकता हूं कि यूपी में या तो पूर्ण बहुमत वाली सरकार यानी सपा आएगी या फिर मामला फंस सकता है।
कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से सपा को जितना फायदा हुआ है, उससे ज्यादा फायदा कांग्रेस को हुआ है। यूपी के मैदानों से पूरी तरह साफ यदि कांग्रेस पिछली बार की तरह 25 सीट भी ले आए तो उसकी इज्जत बच जाएगी।
हालांकि, उम्मीद है कि सपा के साथ हाथ मिलाने से उसकी सीट 25 से बढ़कर 35 हो सकती है। कांग्रेस और सपा के कार्यकर्ताओं का अब एक ही लक्ष्य है कि किसी भी कीमत पर अखिलेश यादव को फिर से सत्ता की कमान सौंपी जाए।
पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजों पर गौर करें तो पता चलता है कि सपा और कांग्रेस ने ही एक-दूसरे के सबसे ज्यादा वोट काटे थे। हालांकि, गठबंधन के कारण इस बार ऐसा नहीं होगा। यूपी की राजनीति में मुसलमानों का वोट काफी अहम है जो गठबंधन से पहले कांग्रेस और सपा में बंट जाता था, लेकिन इस बार ऐसा होने की आशंका काफी कम है। भाजपा को रोकने के लिए मुसलमान अपना वोट खराब नहीं करेंगे। इसलिए वोट उन्हें ही जाएगा, जो सत्ता पर काबिज हो रहे हैं।
सपा के बाद दूसरे नंबर पर बसपा है। बसपा जमीन पर चुपके-चुपके अपनी पकड़ बना रही है। मायावती खुद सीएम पद के लिए एक चेहरा हैं। मायावती के वक्त गुंडागर्दी काफी हद तक कम हो जाती है, जो कि सपा के दौरान बढ़ जाती है। हालांकि, खुद भाजपा के पास ऐसे नेताओं की कमी नहीं है जो कई तरह के अपराधों में शामिल हैं। खैर मायावती को दलित, मुसलमान और बाकी पिछड़े तबकों से काफी उम्मीदें हैं। जबकि भाजपा यूपी में तीसरे नंबर पर नजर आ रही है।
नोटबंदी से लोगों में काफी गुस्सा है। जिन भाजपा के वोटर्स ने देशहित में नोटबंदी का समर्थन किया, उन्हें भी अब समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर नोटबंदी से क्या फायदा हुआ। बड़ी तादाद में कामकाज बंद हुए हैं। गन्ना किसानों से लेकर बड़े कारोबारी तक नोटबंदी की मार झेल रहे हैं। रोजगार की तलाश में बाहर गए मजदूर फिर से गांव में बेरोजगार लौट आएं हैं। ऐसे में ये लोग भाजपा को कितना वोट देंगे। ये भविष्य की गर्त में ही छुपा है।
भाजपा और बसपा के पास एक भी ऐसा इश्यू नहीं है जो अखिलेश के खिलाफ जनता को खड़ा कर सके। जाति, धर्म के इस प्रदेश में पहली बार विकास के नाम पर चुनाव लड़ा जा रहा है। लेकिन हर इलाके में उन्हें ही ticke दी जा रही है जो जाति के समीकरण पर सेट हो रहे हैं। भाजपा ने एक भी मुसलमान को यूपी में अब तक ticket नहीं दी है।

Comments

Popular posts from this blog

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

बाघों की मौत के लिए फिर मोदी होंगे जिम्मेदार?

आशीष महर्षि 
सतपुड़ा से लेकर रणथंभौर के जंगलों से बुरी खबर आ रही है। आखिर जिस बात का डर था, वही हुआ। इतिहास में पहली बार मानसून में भी बाघों के घरों में इंसान टूरिस्ट के रुप में दखल देंगे। ये सब सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए सरकारें कर रही हैं। मप्र से लेकर राजस्थान तक की भाजपा सरकार जंगलों से ज्यादा से ज्यादा कमाई करना चाहती है। इन्हें न तो जंगलों की चिंता है और न ही बाघ की। खबर है कि रणथंभौर के नेशनल पार्क को अब साल भर के लिए खोल दिया जाएगा। इसी तरह सतपुड़ा के जंगलों में स्थित मड़ई में मानसून में भी बफर जोन में टूरिस्ट जा सकेंगे। 
जब राजस्थान के ही सरिस्का से बाघों के पूरी तरह गायब होने की खबर आई थी तो तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सरिस्का पहुंच गए थे। लेकिन क्या आपको याद है कि देश के वजीरेआजम मोदी या राजस्थान की मुखिया वसुंधरा या फिर मप्र के सीएम शिवराज ने कभी भी बाघों के लिए दो शब्द भी बोला हो? लेकिन उनकी सरकारें लगातार एक के बाद एक ऐसे फैसले करती जा रही हैं, जिससे बाघों के अस्तिव के सामने खतरा मंडरा रहा है। चूंकि सरकारें आंकड़ों की बाजीगरी में उस्ताद होती हैं, तो ह…