Skip to main content

प्यार, मोहब्बत और वो

आप यकिन कीजिए मुझे प्यार हो गया है. दिक्कत बस इतनी सी है कि उनकी उमर मुझसे थोडी सी ज्यादा है. मैं २५ बरस का हूँ और उन्होंने ४५ वा बसंत पार किया है. पेशे से वो डाक्टर हैं. इसी शहर में रहती हैं. सोचता हूँ अपनी मोहब्बत का इज़हार कर ही दूँ. लेकिन डर भी सता रहा है. यदि उन्होंने ना कर दिया तो. खैर यह उनका विशेषाधिकार भी है. उनसे पहली मुलाकात एक स्टोरी के चक्कर में हुई थी. शहर में किसी डाक्टर का कमेन्ट चाहिए था. सामने एक अस्पताल दिखा और धुस गया मैं अन्दर. बस वहीं उनसे पहली बार मुलाकात हुई. इसके बाद आए दिन मुलाकातें बढती गई. यकीं मानिये उनका साथ उनकी बातें मुझे शानदार लगती हैं. मैं उनसे मिलने का कोई बहाना नहीं छोड़ता हूँ. अब आप ही बताएं मैं क्या करूँ..

Comments

abhishek said…
तो बोल दो मेरे भाई, नेक काम में देरी क्‍यूं. क्‍योंकि अगर उसे बाद में किसी और तरह से पता चलेगी तो कहीं न कहीं उसे बहुत दुख होगा और तेरे और उसके बीच कहीं न कहीं दरार पैदा होगी आखिर तेरा भाई अभिषेक ऐसा बोल रहा है अब मेरे एक्‍सप्रियस पर तो तुझे शक नहीं ही होगा. और वैसे वह है कौन जो मेरे छोटे भाई का दिल चुरा ली है. और प्‍यार में उम्र का क्‍या लेना देना यार. आगे के लिए बेस्‍ट ऑफ लक. नहीं बोल पाया तो जीना भी दुस्‍वार हो जायेगा.
Mired Mirage said…
यदि केवल लगाव है तो देर सबेर कम भी पड़ सकता है,यदि प्रेम है तो आप स्वयं जान जाएँगे। उम्र प्रेम में कुछ व्यवहारिक कठिनाइयाँ तो खड़ी कर सकती है परन्तु रोक नहीं लगा सकती। वैसे भी अभी तो यह एकतरफा ही है। एकतरफा केवल मोह,लगाव हो सकता है,प्रेम नहीं।
घुघूती बासूती
शोभा said…
आशीष भाई
मुझे तो लगता है बोलने की ज़रूरत ही नहीं है। एक कोमल भाव अगर दिल में जगा है तो खुश रहो। अगर भाव सच्चा है तो खुद ही उनको भी पता चल जाएगा। तुम तो बस मस्त रहो और नूर की बूँद का आनन्द उठाओ।
अजी हम क्या कहे यह तो दिल का मामला है।
DR.ANURAG said…
इस तरह किसी के प्यार में पड़ना ...वाकई खतरनाक है....ओर खास तौर से डॉ के.....
Anonymous said…
When it's love like this, enjoy the feeling every day it lasts.

You're in dangerous domain buddy. Take care...
Udan Tashtari said…
मेरी शुभकामनाऐं तुम्हारे साथ हैं. जो भी अच्छा होगा वही होगा. हम तो हैं ही साथ में. समझदार हो, अपना अच्छा बुरा सब समझते ही हो. बता जरुर देना.

मसले से दीगर, मुहब्बत का इजहार करने में शरमाना कैसा? ब्लॉग लिंक दे दो, खुद जान जायेंगी. हमारे समय में तो किताब में चिट्ठी रख कर देना पड़ती थी. :)
DUSHYANT said…
hain !!!!!!! jeeo cheenee kam hai...cheenee kam hai .....
ok, to ashish ko bhi pyar ho gaya thoda waqt lo samajh aa jayega mahaj aakarshn hai ya prem
आशीष

अपना ईमेल एड्रेस भेज दें।


राजशेखर

rajssingh@gmail.com

http://munafa.blogspot.com/
भाई करो सिर्फ़ इतना कि उन्हे अपने ब्लॉग का पता दो, यह सब पढने के बाद जो करना होगा ड़ाक्टर सहिबा हीं करेगी.
pravin said…
sir aap majak men hi sahi kah to dijie .
waise is umra men bhi wo pyar to kar hi skti hain.bas dar yah hai ki wo shadi-shuda hui to is vichar se kam se kam aap unaki jindagi men bhoochal to la hi denge...

paane ki ichchaa chhod bhi aadyatmik prem kar aap misal to samne rakh hi sakte hain....aur unki or se green signal mile to badh jaaiye is rapteele raste par..
crediblenews.blogspot.com said…
आप को अपने प्यार की इजहार में तनिक भी देर नहीं करनी चाहिए . मेरा ख्याल है सच्चे प्यार की आवाज़ भगवान भी सुनते हैं .

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…