Skip to main content

बनारस शहर नहीं संस्‍कृति का नाम


आज मेरे सबसे पसंदीदा शहर बनारस पर लिखने का मन कर रहा है। बनारस को आप कई नाम से बुला सकते हैं। मसलन काशी या फिर वाराणसी। बनारस किसी शहर का नाम नहीं बल्कि एक संस्‍कृति का नाम है। जो एक बार बनारस की पुरानी गलियों में रह लिया है, वो कभी भी बनारस को नहीं भूला सकता है। मैं भी नहीं भूला सकता हूं। मेरी बचपन इसी शहर की गलियों में बीता है। इन्‍हीं गलियों में मैं बड़ा हुआ हूं। दशाश्‍वमेघ घाट पर वो चार आंगन का घर और हर रोज गंगा के किनारे शाम बीताना आखिर कोई कैसे भूल सकता है। बनारस में प्रतिदिन लाखों की तादाद में बाहरी लोग धूमने या फिर गंगा स्‍थान के लिए आते हैं। लेकिन बनारस है कि बदलने का नाम ही नहीं लेता है। मेरे बचपन के बनारस और आज के बनारस में मुझे कोई खास फर्क नजर नहीं आता है। हालांकि थोड़ा परिवर्तन तो हुआ है लेकिन यह सुरक्षा के लिहाज से जरुरी था। जैसे अब आप बेरोकटोक विश्‍वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद के करीब नहीं जा सकते हैं। लेकिन जब मैं छोटा था तो स्‍कूल से भागकर हर रोज ज्ञानवापी मस्जिद में वजू वाले तालाब में रंगीन मछलियों के साथ खेलता था और फिर विश्‍वनाथ मंदिर की गलियों से घूमते हुए घर पहुंचता था। लेकिन अब यह संभव नहीं है। बनारस मंदिरों का शहर है,घाटों का शहर है और शहर है जिंदादिली और फक्‍कड़ जिदंगी का। आज भी बनारस की दुकानों पर बैठकर लोग बुश से लेकर अपने पार्षद का चिरहरण कर लेते हैं। इस बहस में एक सामान्‍य आदमी से लेकर कई नामीगिरामी जर्नलिस्‍टों को शामिल देखा है मैने। ऐसा है मेरा बनारस। दंगें होते हैं, बम बिस्‍फोट होते हैं लेकिन बनारस नहीं बदलता है और कभी बदलेगा भी नहीं। जिस दिन बनारस बदल गया, उस दिन बनारस बनारस नहीं रहेगा।

Comments

Anonymous said…
isko padkarlag raha hai ki aj apko apne ghar ki bahut yaad aa rahi hai..kya maine sahi kaha hai????
Anonymous said…
aap sahi kah rahe hain!
बनल रही बनारस । बम !
Pratik said…
बनारस की संस्कृति तो सतत प्रवाहमयी है। चिरकाल से बनारस ऐसा ही है और शायद आगे भी अनंत काल तक ऐसा ही जीवंत रहेगा।
1999 में बनारस में दस दिन गुजारने का मौका मिला था, तब से यह मेरे पसंदीदा शहरों में से एक है, एक अजीब सी अलमस्तता है इस शहर में। सुबह गंगा किनारे बैठकर सूर्योदत देखना एक अलग ही एहसास जगा जाता था। मुझे यदि हर साल कुछ दिन के लिए किसी एक शहर में रहने के लिए कहा जाए तो निश्चित ही वह शहर बनारस होगा।
विश्व के सबसे पुराने जीवित और स्पंदनशील शहर (ओल्डेस्ट लिविंग सिटी) को उसकी संस्कृति ने ही तो बचाए और बनाए रखा है .

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…