Skip to main content

Posts

बाघों की मौत के लिए फिर मोदी होंगे जिम्मेदार?

आशीष महर्षि 
सतपुड़ा से लेकर रणथंभौर के जंगलों से बुरी खबर आ रही है। आखिर जिस बात का डर था, वही हुआ। इतिहास में पहली बार मानसून में भी बाघों के घरों में इंसान टूरिस्ट के रुप में दखल देंगे। ये सब सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए सरकारें कर रही हैं। मप्र से लेकर राजस्थान तक की भाजपा सरकार जंगलों से ज्यादा से ज्यादा कमाई करना चाहती है। इन्हें न तो जंगलों की चिंता है और न ही बाघ की। खबर है कि रणथंभौर के नेशनल पार्क को अब साल भर के लिए खोल दिया जाएगा। इसी तरह सतपुड़ा के जंगलों में स्थित मड़ई में मानसून में भी बफर जोन में टूरिस्ट जा सकेंगे। 
जब राजस्थान के ही सरिस्का से बाघों के पूरी तरह गायब होने की खबर आई थी तो तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सरिस्का पहुंच गए थे। लेकिन क्या आपको याद है कि देश के वजीरेआजम मोदी या राजस्थान की मुखिया वसुंधरा या फिर मप्र के सीएम शिवराज ने कभी भी बाघों के लिए दो शब्द भी बोला हो? लेकिन उनकी सरकारें लगातार एक के बाद एक ऐसे फैसले करती जा रही हैं, जिससे बाघों के अस्तिव के सामने खतरा मंडरा रहा है। चूंकि सरकारें आंकड़ों की बाजीगरी में उस्ताद होती हैं, तो ह…
Recent posts

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…

UP POLL @ 2017 : यूपी में #BJP की हार में ही है #RSS की जीत

आज फिर से बात उत्तर प्रदेश की। यूपी की बात इस वक्त होगी तो चुनाव का जिक्र भी होगा। जिक्र संघ और भाजपा के साथ नरेंद्र मोदी का भी होगा। चलिए फिर आज हम इन्हीं के बारे में जिक्र करते हैं। भाजपा का यूपी में हारना देश के सबसे बड़े संगठन संघ के लिए रामबाण जैसा होगा। ये हार जहां संघ को फिर से जिंदा करने में मदद करेगी, वहीं प्रचंड बहुमत से सत्ता में आए मोदी एंड टीम पर थोड़ा अंकुश भी लगाएगी। क्योंकि ये पहली दफा है जब केंद्र में तो भाजपा की मजबूत सरकार है लेकिन संघ और उसका एजेंडा कहीं दूर तलक तक नहीं दिखता। संघ की पहचान हमेशा से ऐसे संगठन की रही है जो खुद को सबसे बड़ा राष्ट्रभक्त बताता है और ऐसे मुल्क का ख्वाब देखता है जहां केवल हिंदुओं के लिए स्थान होगा। यानी ऐसे मुल्क में मुसलमानों और उनसे जुड़ी किसी भी चीज के लिए कोई जगह नहीं होगा। लेकिन ये दुर्भाग्य है संघ का कि केंद्र में सत्ता में आने के बाद भाजपा के उसके प्रधानमंत्री एजेंडे से विचलित हो जाते हैं। बात राम मंदिर की हो, गो हत्या की हो या फिर सिविल यूनिफॉर्म कोड की हो। हर बार भाजपा की सरकार ने संघ से केवल वादे किए, लेकिन निभाए कभी नहीं। जबकि…

UP POLL 2017 : 'दादा' आप जैसों की अब भाजपा में कोई जरूरत नहीं...

राजनीति में बहुत कम ऐसे नेता हैं, जिनका सम्मान करने का मन करता है। खासतौर से भाजपा की बात की जाए तो सम्मानित नेताओं की संख्या ना के बराबर ही होती है। पर भाजपा जैसी सांप्रदायिक पार्टी में भी श्यामदेव राय चौधरी 'दादा' जैसे नेता हैं, जो अपने काम के बल पर बनारस की जनता के दिलों पर राज करते हैं। लेकिन श्यामदेव राय चौधरी 'दादा' का टिकट काटकर भाजपा ने साबित कर दिया है कि अब पार्टी में अच्छे नेताओं की कोई आवश्यकता नहीं है। इसी के साथ भाजपा ने बनारस में अपनी हार भी तय कर ली है। 
वाराणसी के सबसे सक्रिय और अपराजेय भाजपा नेता श्यामदेव राय चौधरी 'दादा' पिछले सात बार से लगातार वाराणसी दक्षिण से चुनकर विधानसभा पहुंचते रहे हैं। लेकिन संघ और संगठन ने उनके समर्पण और ईमानदारी की अनदेखी करते हुए नीलकंठ तिवारी को टिकट दे दिया, जिन्हें क्षेत्र की जनता जानती तक नहीं है। श्यामदेव राय चौधरी 'दादा' बातचीत में कहते हैं कि यदि पार्टी टिकट काटने से पहले मुझे बता देती तो मैं किसी बीमारी का बहाना बनाकर खुद पीछे हट जाता। पार्टी को कम से कम मेरी कमियां तो बता ही देनी चाहिए थी। 
राजनीति…

UP POLL 2017 : काम बोलता है...

यूपी से लौटकर आशीष महर्षि यदि आप यूपी से बाहर बैठकर यहां के चुनाव को लेकर कोई अंदाजा लगा रहे हैं, तो हो सकता है कि आपका अंदाजा गलत हो। यूपी पहुंचने से पहले तक अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे ऐसा लग रहा था कि यूपी में इस दफा भाजपा सरकार आ सकती है। लेकिन लखनऊ पहुंचते-पहुंचते मेरी सोच करवट लेने लगी। जमीनी हकीकत मेरी सोच से एकदम उलट रही। लखनऊ, गोरखपुर, बनारस, इलाहाबाद जैसे प्रमुख शहरों में घूमने के बाद यह बात दावे के साथ कह सकता हूं कि यूपी में या तो पूर्ण बहुमत वाली सरकार यानी सपा आएगी या फिर मामला फंस सकता है। कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से सपा को जितना फायदा हुआ है, उससे ज्यादा फायदा कांग्रेस को हुआ है। यूपी के मैदानों से पूरी तरह साफ यदि कांग्रेस पिछली बार की तरह 25 सीट भी ले आए तो उसकी इज्जत बच जाएगी। हालांकि, उम्मीद है कि सपा के साथ हाथ मिलाने से उसकी सीट 25 से बढ़कर 35 हो सकती है। कांग्रेस और सपा के कार्यकर्ताओं का अब एक ही लक्ष्य है कि किसी भी कीमत पर अखिलेश यादव को फिर से सत्ता की कमान सौंपी जाए। पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजों पर गौर करें तो पता चलता है कि सपा और कांग्रेस ने ही एक-…

बनारस आपको हमेशा याद करेगा लच्छू महाराज...

लच्छू महाराज...आप भले ही इस दुनिया को अलविदा कह गए हों, लेकिन आपने जो प्यार और पहचान इस बनारस को दिया है, उसे कोई कैसे भुला सकता है। बनारस सिर्फ एक शहर नहीं है। बनारस वो रस है जिसे सिर्फ वही महसूस कर सकता है जो इसकी मिट्टी की खुशबू को जानता हो। इसकी खुशबू को जानने के लिए आपको बनारस का होना पड़ेगा। बनारस की संकरी गलियां अपने आप में बहुत कुछ समेटे हैं। यहां हर गली, हर मुहल्ले में आपको ऐतिहासिक धरोहर मिलेगी, लेकिन कई बार उसकी कीमत हम तब जानते हैं जब ऐसा शख्स या तो हमसे जुदा हो जाता है या फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना लेता है और हम अपने ही रत्नों से अनजान बने रह जाते हैं। ये कोई इत्तेफाक नहीं। बनारस के घाटों पर आप हर वो रंग देख सकते हैं जिसकी चाहत लिए आप यहां आते हैं। सुबह-शाम मंदिर और मस्जिद से एक साथ घंटा और अजान अगर कहीं सुनने को मिलता है तो वो शहर बनारस ही है। 
शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खान सुबह-शाम बनारस शिव मंदिर में अपनी शहनाई की तान सुनाते थे और दुनिया सुध-बुध खोकर शहनाई की आवाज में खो जाती थी। बिस्मिल्लाह खान और बनारस एक-दूसरे के पर्याय बन चुके थे। चाहे कैसा भी अवसर क्यों न हो,…

भीगी बारिश

ये शाम भी है भीगी-भीगी ये दिल भी है भीगा-भीगा

मैं हूं, तुम हो फिर भी हम दोनों हैं तन्हा-तन्हा

बारिश की पहली बूंदों ने  मुझे भीगो दिया
तुम भी भीगी होगी आज पर तन्हा तन्हा