Skip to main content

अब जी कर क्या किया जाए

वो चाहती थी कि मैं उसके साथ एक दोस्त जैसा ही बर्ताव करूं। लेकिन यह मेरे लिए संभव नहीं था। मैं उसे चाहता हूं। खैर हर किसी के चाहने से यदि खुदा मिलने लगता तो खुदा की औकात की क्या रह जाती। फिर भी लोग खुदा को जमीन पर लाने की जिद्द करते हैं। और मैं उस पागल लडक़ी के दिल में अपने लिए थोड़ी सी जगह बनाने का प्रयास कर रहा हूं पिछले कई बरस से। लेकिन कम्बख्त उसके दिल में मेरे लिए जगह ही नहीं है। उस बेगाने शहर को छोडक़र यहां आया। लेकिन दिल-ए-नादान को चैन यहां भी नहीं। जिस गली से गुजरता हूं, उसके होने का अहसास महसूस होता है। सोच रहा हूं अब यह शहर भी छोड़ दूं। आपकी क्या राय है। अब दुनिया से भी रुखसत होने का वक्त आ गया है।
नोट-कहानी

Comments

प्यार के चक्कर में न पड़ो तो अच्छा ही हरेगा। वो चाहती है कि आप उसके दोस्त बने तो दोस्त बनना ही अच्छा है। दोस्ती से अधिक चाहते हो तो शादी का प्रस्ताव रख दो। शादी और दोस्ती के बीच की स्थिति बहुत खराब होती है। और वो तुमसे जुड़ना नहीं चाहती है तो भूल जाना ही बेहतर होगा। यदि दुनिया से जाने की इच्छा है तो यह भूल मत करना। तुम तो चले जाओगे। तुम्हारे माता-पिता को भारी कष्ट होगा। वे सोचेगे कि आखिर तुम्हारे लालन-पालन में क्या कमी कर दी कि एक लड़की के लिये माता-पिता को छोड़ दुनियां से ही चल बसे।
Udan Tashtari said…
अरे, ऐसा न कहे. इतनी हताशा ठीक नहीं..दुनिया बहुत सुन्दर है दोस्त...एक दायरे से बाहर निकल नजर तो दौडाओ.
आशीष छोडो जिन्दगी मे ओर भी बहुत से काम हे
महेन said…
यह सवाल औरों से नहीं अपने आप से पूछें और यदि पूछने से डर लगता है तो चुप्पी मारकर बैठ जाएँ, उत्तर समय दे देगा। समय हर सवाल का जवाद दे देता है चाहे वह पूछा जाए या नहीं।
शुभम।
गरिमा said…
शायद आपका नोट किसी ने नही पढा "कहानी" :)।
कहानी अच्छी है, पर एक स्टूपिड से रिलेशन के लिये इतनी हताशा!!! दुनिया और भी बहूत से काम है।
Anil said…
दिल में जगह अपने-आप बनती है, किसी जादू की तरह। इसमें न तो आप कुछ कर सकते हैं, न ही वो। इसलिये समझदारी इसी में है कि अपना काम करें और प्रगतिशील हों। जब आप शिखर पर होंगे, तब दुनिया आपके कदमों में अपने-आप आ लोटेगी।
Pooja Prasad said…
खैर हर किसी के चाहने से यदि खुदा मिलने लगता तो खुदा की औकात की क्या रह जाती।

mujhe to ye line bahut damdaar lagi.
kai ssari cheeze kah di. 1 sath.
kai aspects of life khol daale.

pooja prasad

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…