Skip to main content

खलनायक हैं ठाकरे; मोदी और संजय गाँधी

शिवसेना ने एक बार फिर से साबित कर दी कि यदि किसी ने भी सच बोलने का प्रयास किया तो उसे हिंसक तरीके से कुचल दिया जाएगा। परसों भी बोम्बे मे यही देखने को मिला
जब शिवसेना ने हिंदी पत्रिका आउटलुक के ऑफिस मे धुस कर जमकर हंगामा मचाया। शिवसेना का कहना कि आउटलुक ने बाला साहेब को ६० सालो का खलनायक कहा है। ठाकरे के अलावा इस लिस्ट में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और संजय गाँधी जेसे नेताओं का भी नाम हैं। क्या आउटलुक ने गलत कहा। आउटलुक ने वही कहा जो कि हैं। ठाकरे ने आमची मुम्बई के नाम पर कितनी राजनीती की हैं यह सब जानते हैं। मुम्बई मे आज भी शिवसेना का तांडव जारी हैं। जिसका खामियाज़ा उत्तर परदेश और बिहार के लोगों को उठाना पड़ता हैं।

Comments

सच सुनने, सच कहने और सच बोलने के अलावा सच सहने की शक्ति काफी कम लोगों में होती है। भगवान इन हंमागेबाजों को सदबुद्धि दे। वैसे कहावत है नंगे से तो खुदा भी डरता है तो आम आदमी की क्‍या बिसात।
Anonymous said…
ashish ji aapko is baat ke liye sadhuvad ki aapne yeh baat samane lai varna yeh khabar kahin bhi padne ko nai mili..in hindutva party desh ko hazaro sal piche le jana chahti hain.

Raj Sharma
NDTV
ashish said…
sir vaise mera naam bhi ashish hi hai.jahan tak aap modi aur bal thakre ko khalnayak kaha hai main aap se sehmat nahi hun.haan in sab ko thik nahi kaha ja sakta lekin is duniya mein kaun doodh ka dhula hai.aap ka pesa yahi ho sakta hai tab to thik hai.lekin agar aapne ye baat soch samjhkar kahi hai tab to afsos hai mujhe aapki soch par hain.hamara desh aise hi loogon ke karan aaj is halat mein hai.jimhe godhra to saamjh ata hai lekin mau ka dnga nahi dikhta.jo apne desh mein parmanu parikhan ko galat kehte hain lekin iran ka is mudde par support karte hain kya soch hai aap logon ki aap hi jane.mujhe nahi pata.tajmahalke liye asman sir par utha lete hain lekin ramsetu par maun sadh lete hain kaisi samjah hai main nahi janta.auar rahi baat sach ki to sach kya hai kya aap mujhe batayenge?main aapko bata hoon sach vahi hai jise aap sabit kar dein.aur kya kahoon?baki aap samjh hi sakte hain.
sarvesh said…
ashish ji,
ye sach hai ki jo-kuchh mumbai me hua wo, sahi nahi hai.lekin kisi ko bhi nayak ya khalnayak banane me kya media ki koyi bhumika n hoti.khabro aur sansani ke naam par unhe satwe asman par pahuchane wale bhi to hum hi hain.
jinhe hum kitabi gyan aur graf ke aadhar pe nayak ya khalnayak bana dete hain.unhe kahi na kahi bhari jan-samarthan mila hota hai aur isi lok tantra ke sahare wo satta par aaseen hote hain.
sabse pahle to media ko apna dharatal talashna hoga ki jin logo ko media hilight kar raha hai unki waswikta kya hai?
hamare kuchh bhayi log ye kahne se bhi nahi chukte ki up & bihar walo ke sath jo ho raha hai, wo sahi hai.us samay wo ye bhul jate hain ki up, bihar ke log bhi bharatwasi hain.hum khud hi apne apko alag karte hain, fir alag hone ka rona rote hain.aur agar baal thakre, modi aur sanjay gandhi khalnayak hain to fir shahi imam bukhari, shekh abdullah aur saiyad shahabuddin jaise log khalnayko ki line me pichhe kaise hain..? jo jama masjid jaise pawitra jagah se dangon ka ailaan karte hain...aur unke mamlo me media kyo doyam rawaiya apnati hai...?
agar hum nispakchh hain to hame har dristikon se sochanaa hoga.nahi to is tarah ki dukhad ghatnaen hoti rahengi...hame is mansikta se nikalnaa hoga ki 'dusaro ke ghar aag lage to haath seko aur khud ke ghar aag lagi to koyi bol n rahaa'...!
आशीष said…
मुझे नही पता कि आप गाँधी और उनके विचार के बारे मे क्या जानते हैं। मैं तो बस शांति कि बात कर रहा हूँ। गाँधी बाबा भी यही करते थे और उन्हें संध ने गोली मार दी। मैं पूरी तरह हिंदु और मुस्लिम सांप्रदायिकता के खिलाफ हैं। आप यह भ्रम न रखें की हमारे जेसे लोग सिर्फ हिंदू सांप्रदायिकता का ही विरोध करते हैं।

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…