Skip to main content

लड़कियां मुंबई की सड़कों पर क्‍यों नहीं निकलें

31 दिसंबर की देर रात मुंबई में जो दो महिलाओं के साथ सत्‍तर अस्‍सी लोगों की भीड़ ने जो कुछ किया, वह शर्मनाक था लेकिन इसी के साथ एक नई बहस छिड़ गई है। ब्‍लॉग की दुनिया में कई लोगों ने इस पर लिखा और कमेंट के रुप में कई लोगों ने अपनी अपनी राय। कुछ ने इसे शर्मसार करने वाली घटना बताई तो किसी ने संस्‍कृति के ठेकेदारों पर सवालिया निशान उठाया। किसी ने इन लड़कियों के बहाने पूरे समाज के सामने यह सवाल उठा दिया कि महिलाओं को देर रात सड़क पर नहीं निकलना चाहिए क्‍योंकि यह हमारी संस्‍कृति में नहीं है। खैर सब ने अपने अपने अनुसार अपनी राय दी। कुछ बातों से मैं सहमत हूं और कुछ से नहीं। लेकिन मैं सभी लोगों का तहेदिल से आभारी हूं कि इन्‍होंने पूरी ईमानदारी से अपनी राय दी। अरे मुंबई तूने यह क्‍या कर डाला नामक शीर्षक खबर के लिए यहां क्लिक करें

वाह मनी ब्‍लॉग के कमल शर्मा ने कहा कि भाई शहर सुरक्षित हो या असुरक्षित....रात में पौने दो बजे तो किसी के भी घूमने के लिए ठीक नहीं है। इन महिलाओं के साथ जो अभद्रता हुई वह शर्मनाक है और छेड़ने वालों को खोजकर कानूनी कारईवाई होनी चाहिए। लेकिन इन महिलाओं और इनके पुरुष मित्रों को भी यह सोचना चाहिए था कि यह किसी भी देश और शहर में घूमने का समय नहीं है। नव वर्ष की मस्‍ती में आजकल होता क्‍या है दारु और सेक्‍स।


जबकि अपना पन्‍ना के अनिल पांडेय का मानना है कि भाई इस पर मैं यही कहूंगा कि इन हिन्‍दुवादी संगठनों के लोग अब क्‍हां मर गए। अब इन्‍हें महिलाओं और संस्‍कृति की याद नहीं आई और बडे़ बड़े दावे करने वाली सरकार क्‍या बेहोश हो गई थी उस वक्‍त।


आलाप के राजेंद्र त्‍यागी कहते हैं क‍ि घटना शर्मनाक है। इस प्रकार की घटनाएं महानगरो में पनप रही अपसंस्‍कृति के कारण हैं। सावाधन रहना होगा। साथ ही कहूंगा- लापरवाही आपकी गाली चोरों को? ... क्‍यों?


आवारा बंजारा के संजीत का कहना है कि यदि अपने आप को इस घटना में रखूं तो सोचता हूं कि क्या मै रात को दो बजे अपनी किसी महिला मित्र या घर की ही महिला के साथ इकत्तीस दिसंबर की रात ऐसे माहौल मे सड़क पर घूमने निकलूंगा? अगर निकलता हूं तो मेरी गलती पहले है, बदसलूकी करने वालों की तो गलती खैर है ही। दूसरी तरफ इस घटना के बारे मे पढ़कर या सुनकर यह भी लगता है कि क्या हमारे शहरों में कानून या प्रशासन नाम की कोई चीज या उसका भय ही नही है ऐसे लोगों में जो ऐसी बदसलूकी करने के मौके तलाशते रहते हैं। क्या हम अपने ही शहर में बेखौफ हो कर नही घूम सकते? क्या महिलाएं नए साल का जश्न हम जैसे ही घूमते हुए नही मना सकती? दोनो ही नज़रिए महत्वपूर्ण हैं!! खामियां दोनो तरफ हैं। पर प्रशासन का दायित्व है कि वह नागरिकों को बेखौफ़ जीने का माहौल दे। इसके अलावा शर्म हमें, हमारे समाज को भी आनी चाहिए। हम क्या बना रहे हैं अपने आप को या समाज को, जहां नारी अकेले दिखी वह सिर्फ़ भोग की वस्तु हो जाती है। क्यों है आखिर ऐसी मानसिकता। इसके लिए तो प्रशासन जिम्मेदार नही। एक नज़र से देखें तो अनिल पाण्डेय जी की बात से भी सहमत। आमची मुंबई तो शिवसेना की मुंबई है, जहां सरकार से ज्यादा शिवसेना का राज चलता है। क्या शिवसेना के राज में ऐसा अधर्म ही होगा। या उनकी नज़र में यह अधर्म ना होकर "युवावस्था का धर्म" ही है?


समय चक्र के महेंद्र मिश्रा की राय है कि यह बड़ी शर्मनाक घटना है इसकी जितनी निंदा की जावे कम है .पश्चात्य सभ्यता की खाल पहिनने वालो को इस तरह का ख़ामियाज़ा तो भुगतने पड़ेगे ।


स्वप्नदर्शी ब्‍लॉग के स्वप्नदर्शी कहते हैं कि मेरी अमूमन समझ रही है कि भीड मे सुरक्षा होती है, पर आसम और अब मुम्बई की इस घट्ना के बाद से ये भरोसा भी खत्म हो रहा है. अब हिन्दुस्तानी समाज एक सामूहिक उन्माद और समूहिक रूप से अपराधी प्रवरिती क होता जा रहा है. अगर रात के दो बज़े, 70-80 पुरुश सड्क पर घूम कर नये साल के उन्माद मे थे, तो सिर्फ महिलओ को भी ये हक है कि वो भी सडक पर निकल सके, बिना भयभीत हुये. अगर किसी को बन्द ही होना चहिये तो इन राक्षसो को बन्द करके कही पाताल मे धकेलना चाहिये.

Comments

भई सब जगह घूमना सबका अधिकार है,पर अपनी सुरक्षा देखना किसकी समझदारी है ,अपनी.किसी सुरक्षित जगह रात को घूमना कोई बुरी बात नहीं,पर कुछ दिन पहले किसी पुलिस वाले द्वारा भी एक लङकी का बलात्कार किया गया था.तो बहुत सुरक्षित जगह तो नहीं है ,मुंबई,
घूमना सही है या गलत इस बहस को छोडिये। क्या ये गलत नहीं की सरेराह बदतमीज़ी होती रही और सब मूक दर्शक बने रहे ? अभद्रता होती रही और सहते रहे। लानत है उन सब पर जो उस समय वहां थे और हाथ पर हाथ धरे तमाशबीन बने रहे।
मुम्बई की सड़कों पर लड़कियां निकलें, जरूर निकलें पर समय और परिस्थितियों को ध्यान में रखकर। क्योंकि इंसान कब और कहां अपनी इंसानियत उतार फेंकने के लिए तैयार हो जाए यह खुदा भी नहीं जानते पुलिस-प्रशासन की बात तो दूर।

लड़कियों को इस घटना से जरा भी डरने की जरूरत नहीं। हां पर वे कुछ सावधानियों को जरूर ध्यान में रखें और इन तरह गुंडों से मुकाबला करने में संकोच न करें।
सुमित सिंह, (अपना अपना आसमां)

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…