Skip to main content

उसका यूं चला जाना

कुछ रिश्‍ते ऐसे होते हैं जो हमें सबसे प्रिय होते हैं। उन रिश्‍तों के आगे और पीछे हमें कुछ भी नहीं सूझता है और खास तौर पर ये रिश्‍तों उस दौर में बनते हैं जब आप या तो स्‍कूल में होते हैं या कॉलेज में। यानि उस उम्र में जब आप धीरे धीरे दुनिया को समझने लगते हैं। ऐसा सबके साथ होता है। लेकिन एक वक्‍त ऐसा भी आता है कि आप अपना साया आपका साथ छोड़ने लगता है, दूसरों से क्‍या गिला की जाए। कॉलेज के शुरुआती दौर में की वह उसकी तरफ खींचा चला जा रहा था। कुछ था उस लड़की में। शायद वह उससे प्‍यार करने लगा था। शायद इसलिए क्‍योंकि वह एकतरफा प्‍यार था। और फिल्‍मों की तरह यहां भी एक तरफा प्‍यार सफल हो नहीं सकता। लेकिन कई सालों की दोस्‍ती में उनके बीच एक ऐसा संबंध बन गया था कि उसे विश्‍वास था कि वह उसे कभी छोड़कर नहीं जाएगा। एक दोस्‍त के रुप में वह हमेशा उसके साथ रहेगी। लेकिन नहीं ऐसा नहीं हुआ। मुंबई में एक साल साथ रहने के बाद वह चली गई। स्‍टेशन पर दोनों रोए भी लेकिन वहां जाने के बाद न जाने ऐसा क्‍या हुआ कि वह उससे बात ही करना छोड़ दी। आखिर ऐसा क्‍यूं किया उसने। आज भी वह बस एक ही प्रश्‍न उससे करना चाहता है। लेकिन वह तैयार नहीं है बात करने के लिए। ऐसे में बस गुलजार साहब की वह लाइनें याद आती हैं कि

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते

जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते
शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा
जाने वालों के लिये दिल नहीं थोड़ा करते
तूने आवाज़ नहीं दी कभी मुड़कर वरना
हम कई सदियाँ तुझे घूम के देखा करते

लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो
ऐसी दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते


लेकिन उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। वह वहां बहुत खुश है लेकिन जिसको छोड़कर व‍ह गई थी उसका क्‍या। वह आज भी मुंबई की हवाओं में उसे महसूस कर सकता है। वह आज भी उसे यहां की गलियों में, सड़कों पर खोजता है ल‍ेकिन वह यहां नहीं है। वह हर बार उस मोड़ पर जा जाकर उसका इंतजार करता है जिस मोड़ पर वह उसे छोड़कर गई थी। कितने मौसम बीत गए, और बीत गईं कई सदिया लेकिन वह क्‍या उसका साया भी नहीं आया। फिर गुलजार साहब याद आ रहे हैं।

क़दम उसी मोड़ पर जमे हैं
नज़र समेटे हुए खड़ा हूँ
जुनूँ ये मजबूर कर रहा है पलट के देखूँ
ख़ुदी ये कहती है मोड़ मुड़ जा
अगरचे एहसास कह रहा है
खुले दरीचे के पीछे दो आँखें झाँकती हैं
अभी मेरे इंतज़ार में वो भी जागती है
कहीं तो उस के गोशा-ए-दिल में दर्द होगा
उसे ये ज़िद है कि मैं पुकारूँ
मुझे तक़ाज़ा है वो बुला ले
क़दम उसी मोड़ पर जमे हैं
नज़र समेते हुए खड़ा हूँ

लेकिन उसे इन बातों से कोई फर्क्र नहीं पड़ता है। वह तो अपनी जिंदगी भरपूर जी रही है। गंगा में पानी रहे या नहीं रहे, हवाओं में वह सुहावना अहसास हो या नहीं, उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। फिर भी कोई है जो उसका इंतजार कर रहा है और विश्‍वास है कि वह वापस आएगी। और वह बस इतना ही कहना चाहती है कि मुझ से पहली सी मोहब्बत मेरी महबूब न माँग

Comments

जो अब कहीं दिखती नहीं है

क्या हुआ जो किसी अपने को छोड़ कर चली गई वो। आज भी उसकी खुशबू घुली है हवा में आज भी बारिश की नन्ही बूंदो में उसकी छुअन है।

मेरे दोस्त खुदा ने बहुत सारी चीजें बनाई हैं रिश्तों की जानलेवा दरारों को भरने के लिए
आओ किसी अपने के दूर चले जाने के बाद
हम इन्हें ही अपना बना लें।
सुमित सिंह
parul k said…
vah agar usey itna chahta hai to zaraa sa uski khushi me khush ho jaaye phir dekhey...kitna sukuun milta hai
वे कर रहे हैं इश्क पर संजीदा गुफ्तगू,
मैं क्या बताऊ, मेरा कहीं और ध्यान है।
फिसले जो इस जगह तो लुढ़कते चले गए,
हमको पता नहीं था कि इतना ढलान है।
वे कर रहे हैं इश्क पर संजीदा गुफ्तगू,
मैं क्या बताऊ, मेरा कहीं और ध्यान है।
फिसले जो इस जगह तो लुढ़कते चले गए,
हमको पता नहीं था कि इतना ढलान है।
वे कर रहे हैं इश्क पर संजीदा गुफ्तगू
मैं क्या बताऊं मेरा कहीं और ध्यान है।
Mired Mirage said…
बहुत सुन्दर ! परन्तु एकतरफा प्रेम सच में प्रेम नहीं होता, या तो वह प्रेम से कुछ अधिक बन जाता है या उससे कुछ कम ।
घुघूती बासूती
कल मैंने एक कहानी लिखी, कुछ लोगों ने इसे मेरी कहानी मान ली, जनाब यह मेरी कहानी नहीं मेरे दिमाग की उपज है बस
आशीष
is bare mein mai kya kahoon yar...mai to khud jeevan kii uhapoh se gujar raha hoon..meri halat kafee had tak in lines se match karti hai:

ऐ रहबर, मुझे रास्ते में छोड़ दे, मुझे आप अपनी तलाश है. मै तेरे साथ चलकर करूँगा क्या.
ab isi se samajh lo..

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…