Skip to main content

एक अधूरी प्रेम कथा

शहर का पुराना चौक आज कुछ ज्यादा ही व्यस्त था। शहर की सभी मोटर गाडियाँ दिन में एक बार इधर से जरुर गुजरती थीं. आज भी गुजर रही थीं. पास में ही टाउन हाल का खाली भवन, जहाँ कभी कभी कोई भटकता हुआ राहगीर आ जाता है. इसी भवन में वो दोनों कुछ ऐसे फैसले ले रहे थे जो कि उनकी ज़िंदगी के साथ कई और लोगों का जीवन बदलने वाला था.

'मुझे नहीं पता कि मैं जो बोलने जा रहा हूँ उसके बाद तुम्हारा क्या रि-एक्शन होने वाला है। लेकिन यदि मैंने और कुछ दिनों यह बात अपने दिल में दबाई तो शायद मैं इसका बोझ सह नहीं सकूं. मैं जीना चाहता हूँ. एक भरपूर ज़िंदगी चाहता हूँ. मुझे पता कि मेरी बात सुनने के बाद या तो तुम यहाँ से उठकर चल दोगी या फिर मुझे कभी माफ़ नहीं करोगी. लेकिन मेरे लिए तुम्हारी खुशी के संग अपनी खुशी भी चाहिए.'

'अब तुम बोलोगे क्या हुआ है तुम्हे?'
' कुछ नहीं'
'फिर मुझे यहाँ क्यों बुलाया है? अब जल्दी बोल दो'
'तुम नाराज़ तो नहीं होगी?'
' अरे नहीं महाराज जी' उसने हँसते हुए कहा।
' मैं तुमसे प्यार करता हूँ और तुम्हारे बिना नहीं रह सकता हूँ'

उसे कुछ नहीं कहा। अब दोनों खामोश थे। पूरा माहौल अजीब सा हो गया था. सूरज धीरे धीरे बादलों के पीछे जाने की तैयारी कर रहा था। शायद उसे भी यही सुनना था.

सन्नाटा........इस सन्नाटे को एक प्यारी लेकिन गंभीर आवाज़ तोड़ती है।

' तुम्हें पता है कि मैं चाह कर भी तुमसे प्यार नहीं कर सकती हूँ। तुम मेरे एक अच्छे दोस्त हो। इससे अधिक कुछ नहीं।'
'लेकिन क्यों नहीं? तुम मुझसे क्यों नहीं प्यार कर सकती हो? मैं जीना चाहता हूँ। तुम्हारे साथ।'
'यह सम्भव नही हैं'
'क्यों ?'
'तुम्हे अच्छी तरह पता है कि क्यों? फिर भी यदि तुम मेरे मुंह से सुनना चाहते तो सुनो। मैं उसे प्यार करती हूँ और हम दोनों ने एक साथ कुछ सपने देखे हैं।'

' मुझे पता है। लेकिन यदि मैं तुमसे प्यार करता हूँ तो इसमे मेरी क्या गलती हैं?
' मैं जा रही हूँ।'

माहौल में फिर वही सन्नाटा.......

अगले दिन जल्दी सुबह, सूरज उगने के साथ ही टाउन हाल के खाली भवन के बाहर लोगों क हुजूम उमड़ पड़ा था। किसी ने टाउन हाल की छत से कूद कर अपनी जान दे दी थी।

Comments

Pankaj Bharati said…
गुरु ये तो तुम्हारी ही कहानी लगती है ......
anitakumar said…
आदमी को व्यव्हारिक रहना चाहिए, दिल की राहों पर आगे बढ़ने से पहले साफ़ साफ़ पूछ लेना चाहिए कि आग दोनों तरफ़ बराबर है या नहीं , नही तो ऐसे मामलों में जो जान देता है बवकूफ़ भी कहलाता है उसी से जिसके लिए जान देता है। दुनिया में एक ही रिशता नहीं होता। कोई भी कदम उठाने से पहले बंदे को ये सोच लेना चाहिए
बढ़िया चित्रण किया है भाई!!
ऐसा बहुत होता है हमारे आसपास!!
लगता है कि किसी खास के बिना ज़िंदगी व्यर्थ है और वह खास आपकी ज़िंदगी में आने से इनकार कर देती है तो फ़िर सब खत्म सा लगता है, लगता है कि उसके बिना यह जीवन फ़ालतू है क्यों न इसे खत्म कर दिया जाए!! बस यही वह पल होता है जहां पर दिल और दिमाग की बात आती है, दिल अगर हावी हुआ तो जिंदगी खत्म और दिमाग हावी हुआ तो टूटे दिल के साथ चलती ही है जिंदगी!! शायद इसे ही हम प्रेक्टिकल होना कहते हैं!!
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए
प्यार से भी ज़रूरी कई काम हैं
प्यार सब कुछ नहीं ज़िन्दगी के लिए !!!
guru ye dunia aisi hi hai..isliye sachhe doston ko pahchano aur savdhani se kam karo..vaise har kisi ke jivan mein ek adhuri prem kahani hoti hai...shayad tum jante ho.
घिसीपिटी कहानी है....इसमें नया क्या है.....मैं तुमसे प्यार करता हूं और तुम नहीं करती हो तो जान दे दूंगा....
कई बार वह मान जाती है तो
जान नहीं जाती है
कई बार नहीं मानती है तो
जान दे दी जाती है
कई बार नहीं माती है तो
उसकी जान ले ली जाती है
कई बार वह मान जाती है तो
यूज करने के बाद छोड़ दी जात है
कई बार नहीं मानती है तो मनाने के लिए ढेरों नाटक किया जाता है...
....कई लाख मोड़े हैं, पेंच हैं और फच्चर है प्रेम और तथाकथित प्रेम में....

.....लेखक या कवि कहना क्या चाह रहा है, समझ में नहीं आ रहा है, जबकि वह पत्रकार है और नए पेंच और नए एंगिल निकालना जानता हो....
जो भी हो,,,कहानी कहने की शुरुआत करना ही स्वागतयोग्य भर है..
यशवंत सिंह
आशीष said…
कहानी पढ़कर कहीं भी नहीं लगा कि उसमें कुछ नयापन है। तुमने नया तो कुछ नहीं लिखा है। कहानी में अगर विषय पुराने हैं तो उसका प्रस्‍तुतिकरण नया होना चाहिए। तुम कोई भी विषय चुनो चाहे वह कितना सामान्‍य क्‍यों ना हो कोशिश करो कि उसमें नए रंग भर सको। लिखने से पहले यह भी सोचना चाहिए कि उसे कौन सी उम्र या कहो वर्ग के लोग पढ़ेगे, उसको केंद्र में रखो। जैसे जब वी मेट क्‍या है, कहानी तो वही घिसी-पिटी है लेकिन उसको ऐसे प्रस्‍तुत किया गया है कि लोग ओम शांति ओम और सावरिया छोड़कर उसको देख रहे हैं। ये कमाल प्रस्‍तुति का ही है। तुम्‍हारी कहानी ऐसी हो जो लोगों को बाँध सके,

Nihu

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…