Skip to main content

गुलाबी नगर का वो कॉफी हाउस

शहर के उस नामचीन कॉफी हाऊस में आज थोड़ी खामोशी फैली हुई थी। ठंड के दिनों में गरमा गरम कॉफी के साथ नई किताबों को खोजते कई जोड़े दिन में कम से कम एक बार तो उधर से गुजर ही जाते थे। लेकिन आज माहौल थोड़ा बदला बदला था। आज पूरे कॉफी हाऊस में एक केवल दो ही लोग थे। एक उस कॉफी हाऊस का मालिक अमित और दूसरा एक कस्‍टमर, जो कि सबसे कोने वाले सीट पर बैठ कर गरमा गरम कॉफी के साथ कोई किताब पढ़ रहा था। आज शाम कुछ अधिक ही ठंड़ी थी। लेकिन अंदर का माहौल पूरी तरह शांत और बड़ा सकून देने वाला था। गुलाबी नगर में आज से करीब बारह साल पहले यह कॉफी हाऊस खुला था। कॉफी हाऊस का मालिक अमित एक बड़े समाचार पत्र में स्‍थानीय संपादक है। दिन में एक बार अमित अपनी बेटी के संग जरुर अपने कॉफी हाऊस को देखने आ जाया करता है। बाकी समय कॉफी हाऊस का मैनेजर जॉन ही इसे संभालता है।

दूसरी ओर, आज न जाने क्‍यों अमित का मन अपने ऑफिस में नहीं लग रहा था और उसने कॉफी हाऊस की ओर ही जाना बेहतर समझा। ऑफिस से निकलते हुए आज कई सालों बाद वो पुरानी बातें याद आ रही थी कि अब उसके दिमाग में पहली बार इस कॉफी हाऊस को बनाने का प्‍लान दिमाग में आया था। गाड़ी बड़ी तेजी से कॉफी हाऊस जाने वाली सड़क पर दौड़ रही थी और अमित का दिमाग कई साल पहले जा रहा था। बात उस समय की है जब वो पहले बार एक चैनल में काम करता था और वहीं उसकी मुलाकात परुनिशा से हुई थी। मुलाकात पहले मोहब्‍बत में बदली और फिर मोहब्‍बत शादी में लेकिन शादी के बाद दोनों में गलतफहमिया बढ़ती गई और दूरियां भी। लेकिन अमित चाहकर भी उसे भूल नहीं पाया था। बस उसी के नाम पर उसने गुलाबी नगर में यह कॉफी हाउस खोला।

सड़क पर भीड़ बढ़ती जा रही थी और अचानक एक जोरदार धमाका। चारों ओर खून ही खून। अमित की गाड़ी का एक्‍सीडेंट हो चुका था। तमाशाबीन खड़े होकर उसके मरने का इंतजार कर रहे थे लेकिन भीड में एक नौजवान युवक निकलकर अमित को किसी तरह अस्‍पताल पहुंचा देता है। लेकिन किस्‍मत को कुछ और ही मंजूर था।

Comments

anitakumar said…
अच्छी कहानी है पर अंत बहुत दुखी करने वाला है , ये परुनिशा नाम तुम्हारी पोस्ट में अक्सर दिख्ता है……।:)
आशीष said…
अनिता जी मेरी हर कहानी में अमित और परुनिशा आपको मिलते रहेंगे
Anonymous said…
भाईजान मान गए तुमको, बस ऐसे ही कहानी लिखते रहो, कहां पत्रकारिता में पड़े हुए,

अनूप
बंधु इसे और विस्तार देने की गुंजाईश है, जल्दबाजी में समेटा जा रहा है ऐसा प्रतीत होता है।
आशीष said…
संजीत बाबू, बात तो आपकी सही है लेकिन यदि आप बेटी का जन्‍मदिन पढ़ेंगे तो कहानी और समझ में आएगी, और यह कहानी अभी खत्‍म नहीं हुई बय मै जानबूझ कर ऐसा लिख रहा हूं कि यदि किसी कारण मैं नहीं रहूं तो कहानी अधूरी नहीं लगे, बस आप अपनी राय जरुर दें
मेरी पत्नी कह रही है। अमित वापस आएगा।
आशीष said…
दिनेश जी बड़ों की बात माननी ही होगी, लेकिन आगे क्‍या होने वाला है यह तो मुझे भी नहीं पता
mamta said…
ये तो धारावाहिक कहानी हो गई है।

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…