Skip to main content

पीवीआर की दो टिकट और मैं

वाकई मुंबई की बात निराली है। आज सुबह ऑफिस में हिंदुस्‍तान लीवर की ओर से एक कॉफी का एक फ्री स्‍टॉल लगा था जिसमें कोई भी अपनी मनपसंद कॉफी की चुस्‍की ले सकता था। मैने भी ली और जीत लिया एक ईनाम। ईनाम है पीवीआर में 14 फरवरी को स्‍पेशल फिल्‍म के लिए दो टिकट। अब सोच रहा हूं कि इन टिकटों का क्‍या करूं। 14 फरवरी को गुरुवार है और ऑफिस में न्‍यूज के साथ भी समय बिताना है। समझ में नहीं आ रहा है कि क्‍या किया जाए। मुझे पता है कि कईयों के लिए यह टिकट खास मायने रखता होगा लेकिन मैं क्‍या करुं इन टिकटों का। जो कपल्‍स बनने लायक है वो थो फिलहाल जयपुर में है।

खैर हिंदुस्‍तान की अधिकतर फिल्‍मों की शुरुआत प्‍यार से शुरु होती है और प्‍यार पर ही खत्‍म हो जाती है। जाहिर है ऐसे में फिल्‍मों के शहर मुंबई का प्‍यार तो खास होगा ही। मुंबई में प्रेमी अपने प्‍यार के इजहार के लिए किसी खास दिन का इंतजार नहीं करते हैं लेकिन फिर भी 14 फरवरी या वैलेंटाइन डे का दिन मुंबईकर, खासतौर पर यहां के युवाओं के लिए खास मायने रखता है। इस दिन पूरे मुंबई पर एक ही रंग होता है और वो रंग होता है इश्‍क का। मुंबई के हाइवे से लेकर समुंद्र तट तक, चारों और सिर्फ और सिर्फ इश्‍क का रंग होता है। मुंबईकर इश्‍क के मायने में देश के अन्‍य शहरों की तुलना में थोड़े अधिक उन्‍मुक्‍त होते हैं।

अब आप ही बताएं कि मुंबई के इस रंग में कैसे रंगा जाए। चिंता हो रही है कि पीवीआर की ये दो टिकटें कहीं बेकार न चली जाएं।

Comments

पोस्‍ट लिख ही दी तो इंतजार करो, किसी लड़की का कॉल आता ही होगा साथ चलने के लिए।
bhaiya tickets ka agar upyog nahi samajh aa raha ho to kisi couple ko de dena. kam se kam wo hi film ke maze le lein. vaise 14 feb ko bhagwa partiyon se bhi to bachna hoga..jinka iman aur sanskritik chinta usi din jagti hai.
PD said…
ढूंढिये.. शायद कोई मिल जाये.. आखिर Cupid Month जो चल रहा है.. :)
अपने किसी एसे दोस्त को दे दो जो अपनी प्रेमिका के साथ जा सके.
वैसे मैं भी मुम्बई में ही हूं और इन बेचारी टिकटों को बचाने के लिये अपनी प्रेमिका के साथ जा सकता हूं.
क्या ख्याल है?
अपन भी भाई शायद आफिस में ही बिताएं 14 फरवरी
komal said…
very nice......apko abhi sey 14th feb ka intzaar hai..yeh baat jhalak gayi..janab
आशीष, सुनिए सब की लेकिन करिए मन की। अभी बारह नहीं बजे हैं....अभी 14तारीख तो बहुत दूर है। वैसे भी हम लोग पीछे कितना सुन रहे थे....पल में हवाएं पूरब से पश्चिम होती हैं....ओ.सिकंदर वाले गाने में। सो, आप को बहुत बहुत शुभकामनाएं।
mamta said…
आशीष जी बेस्ट ऑफ़ लक । :)

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…