Skip to main content

बोधिसत्‍व जी आप अकेले नहीं हैं

हम सब की हालत ऐसी ही है
बोधिसत्‍व मुझसे उम्र में चौदह साल बढ़े हैं। लेकिन उन्‍होने आज की पोस्‍ट में कुछ ऐसी बातें लिख दीं, जिससे मुझे भी थोड़ी निराशा हो रही है। और इसे मानने में मुझे कोई एतराज नहीं है। उनकी पोस्‍ट पढ़ने के बाद आज फिर से जेहन में वो सभी पुरानी बातें उभर गईं जिससे मैं भूल चुका था। कॉलेज में मेरे कई अच्‍छे दोस्‍त थे और इसमें कुछ आज भी हैं। लेकिन उसी कॉलेज में कुछ ऐसे लोग भी थे जिनसे मेरी या कहें उनकी मुझसे नहीं बनती थी। क्‍यों नहीं बनती थी, इसका जवाब आज तक मेरे पास नहीं है। ऐसे ही मुंबई जब आया तो ऑफिस में भी कुछ गड़बढ़ हुई। जो मेरे सबसे प्रिय दोस्‍त थे वही मेरे दुश्‍मन बन गए। उन्‍हे लगने लगा कि मै बॉस का प्रिय हूं और मेरी वजह से उनके खास दोस्‍त की जॉब नहीं लग पाई। उनको लगता था कि मैं नहीं चाहता कि उनके दोस्‍त को जॉब मिले।

समय बितता गया। गलतफहमियां बनती और मिटती गईं। कुछ पल साथ रहे लेकिन उनका यहां से छोड़कर जाना फिर से गलतफहमियों को बढ़ा दिया। अब वो मुझसे बात नहीं करते हैं जबकि कल तक उनका दावा था कि वो मेरे सबसे अच्‍छे दोस्‍त हैं। मुझे आज भी वो दोस्‍त लगते हैं लेकिन कुछ बातें भूली नहीं जा सकती है। खैर उन्‍होंने दुनियादारी सिखा दी। खैर जाने दीजिए इन्‍हें। मेरा तो यही मानना है कि यदि आप सही हैं तो गोली मारो दुनिया का। यह तो अच्‍छा है कि समय रहते लोगों की असलियत सामने आ गई। जयपुर से लेकर बनारस तक मुझे कोई ऐसा एक बंदा नहीं मिला जिसे मैं कह सकूं कि यह मुझे नुकसान पहुंचाना चाहता हैं। लेकिन समय बड़ा बलवान है। किस पर विश्‍वास करें और किस पर नहीं। थोड़ा मुश्किल है यह तय करना।

मुंबई में जब तक वो थे। लगता था‍ कि दोस्‍तों के बीच हूं। लेकिन उनके जाने के बाद कुछ तंहा से हो गया हूं। मुझे पता है इन बातों को वो भी पढ़ रहे होंगे लेकिन उन्‍हें कोई फर्क्र नहीं पड़ने वाला। आज भी दिल नहीं मानता है कि वो ऐसा कर सकते हैं जैसा किया है। क्‍या कुछ कमी मुझमें है या फिर वो ही गलत है। इसे मैने वक्‍त पर छोड़ दिया है। लेकिन फिर भी एक बात मैं जानता हूं.....मैं मक्‍कार नहीं हूं.....मैने भी किसी को धोखा नहीं दिया है.....मैने हमेशा लोगों को साथ लेकर चलना चाहा है..... फिर भी मेरे साथ वो लोग ऐसा क्‍यों कर रहे हैं. इस भीड़भरे शहर में मेरे सिर्फ दो ही दोस्‍त हैं..... ऐसा क्‍यों। यदि इसका जवाब आपको मिले तो जरुर दिजीएगा।अंत में बस इतना सा ही कहूंगा कि जब बोधिसत्‍व जैसे कवि और लेखक के साथ ऐसा हो सकता है तो मैं किस खेत की मूली हूं।

Comments

anitakumar said…
बेटा तुम अकेले नहीं हो, यही दुनिया है हम सब कहीं न कहीं किसी न किसी के हाथों आहत हुए हैं और हमें लगता है कि अकारण अब ये सही है कि नहीं वो तो तभी पता चले जब वो मुँह खोलें। जिन के हाथों आप आहत हुएं हैं अगर वो आप की पोस्ट पढ़ रहे है तो भगवान करे कि वो अपना मुंह खोलें और दोनों के मन बातचीत से साफ़ हो जाएं
Anonymous said…
मेरे दिल की बात कह दी आपने.. मैं भी अपने बारे में ऐसा ही सोचता हूं..
PD(Prashant)
आशीष , तुमने दिल की बात कही क्योंकि आज ये प्लेटफार्म है। मैं भी ऐसा ही हूं जैसा तुमने लिखा। कोई किसी को क्यों नुकसान पहुंचाएगा ? हमेशा यही सोचनेवाला। मगर यह प्रवृत्ति है तो सही इन्सान में। खुद किसी को नुकसान न पहुंचाओ, यह ज़रूरी है साथ ही यह क्षमता भी विकसित कर लो कि कौन दोस्त होने लायक है , कौन नहीं। हालांकि बड़ा मुश्किल होता है समझ पाना।
mamta said…
आशीष ये तो दुनिया का दस्तूर है।
आशीष said…
ममता जी आपने सही कहा, लेकिन मैं तो अभी दुनिया देखना शुरु किया है और ऐसे दस्‍तूर को बदलना जरुरी है, क्‍या बोलती हैं आप
Mired Mirage said…
आशीष, क्षमा करना थोड़ा बोलना ही पड़ेगा चाहे मधुर हो या नहीं । अकारण नहीं परन्तु क्योंकि आप उत्तर चाहते हैं ।
क्या आप बता सकते हैं कि आप या मैं या कोई भी मनुष्य अच्छाई क्यों करना चाहता है ? किसी की सहायता, दान, सेवा, किसी बच्चे को संकट से बचाना , किसी वृद्ध या नेत्रहीन को सड़क पार कराना आदि ?
यह मत कहिये कि आप ऐसा उसके लिए करते हैं । बिल्कुल नहीं, आप यह सब अपने लिए करते हैं । क्योंकि ऐसा करने से आपको प्रसन्नता मिलती है । क्योंकि आप यदि ऐसा न करें तो स्वयं का ही सामना नहीं कर पाएँगे । जो किसी को कष्ट देते हैं वे भी अपनी प्रसन्नता के लिए ही करते हैं । जिस दिन आपको किसीका व्यवहार कष्टप्रद लगे और उसके लिए अच्छा करना आपको बुरा लगे तो आप ऐसा करना अपने आप छोड़ देंगे । कष्टप्रद व्यवहार होने पर भी साधारणतः हम बुरा इसलिए नहीं करते क्योंकि बुरा करना हमें ही दुख देता है ।
क्या किसी व्यक्ति को सब पसन्द कर सकते हैं ? बिल्कुल नहीं । इस पसन्द के लिए आपका अच्छा या बुरा होना महत्वपूर्ण नहीं है । महत्वपूर्ण यह है कि उस व्यक्ति की पसन्द क्या है । बाजार में लाखों साड़ियाँ, हजारों कमीजें होती हैं । बहुत सारी तो हम मुफ्त मिलें तो भी पहनने की कल्पना नहीं कर
सकते । परन्तु उस ही को कोई पैसे देकर खरीदता है । सो कोई भी सबको पसन्द कैसे हो सकता है ?
आप कह रहे हैं आपके दो मित्र हैं । मैं कहूँगी कि मैं आपसे ईर्ष्या करती हूँ । यहाँ मेरे पास तो कोई आधा मित्र भी नहीं है । तो क्या मैं बुरी हूँ ? उबाऊ हूँ ? बिल्कुल नहीं । जिन स्त्रियों से मेरा वास्ता पड़ता है उनसे प्रेम से बोलती हूँ ,मजाक करती हूँ, हँसती हूँ । पुरुषों से अकारण बात करूँगी तो वे परेशान हो जाएँगे, घबरा जाएँगे क्योंकि यहाँ ऐसा नहीं किया जाता । परन्तु यहाँ जो मैं आपसे कह रही हूँ या जो मैं लिखती हूँ वह यदि मैं उनसे कहूँगी तो वे मेरा मुँह देखेंगी । इसका अर्थ यह नहीं कि वे या मैं एक दूसरे से बेहतर हैं । अर्थ यह है कि हम बहुत भिन्न हैं, अतः जो साँझा कर सकते हैं केवल वे ही करते हैं, जैसे साथ सैर के लिए चले जाना आदि ।
मैं कुछ अधिक ही कह गई । परन्तु इसलिए कहा क्योंकि यह जीवन दर्शन मुझे जिसने सिखाया है वह उम्र में आपसे बड़ी नहीं होगी और जब सिखाया तब केवल १५ वर्ष की रही होगी । सो यह एक बड़ी उम्र वाली का आपको भाषण नहीं है परन्तु एक बच्ची से सीखा जीवन का वह दर्शन है जिसके कारण कटुता धुल जाती है । अपेक्षाएँ अन्य से नहीं केवल अपने से रह जाती हैं ।
घुघूती बासूती
Arun Aditya said…
वाह! आप तो कवियों जैसी बात लिखने लगे। बधाई।
आशीष said…
घूघूती बासूती जी जिंदगी समझने में मुझे अभी थोड़ा वक्‍त लगेगा, इस जीवन दर्शन से रुबरु कराने के लिए शुक्रिया, आपने सही कहा कि हम अपनी खुशी के लिए यह सब करते हैं
गरिमा said…
मै जो जवाब बोधिस्त्व जी को देकर आयी हूँ वही बात यहा भी दुहरा रही हूँ :D

"मुझे तो हमेशा लगता है कि मुझे कोई नही चाहता, तो फिर मै खुश हूँ, कम से कम ये उम्मीद तो न रही, अब सिर्फ अपने लिये जी सकते हूँ, क्यूँकि जब कोई चाहेगा तो उम्मीदे भी लगायेगा जब वो पूरी नही होंगी तो तकलीफ होगा, तो सारी तकलीफो से बच गयी।

वैसे चाहना ना चाहना एक अजीब सी कशमश, एक दुसरे की जरूरत, हमे करीब लाती है, फिर उस जरूरत मे कुछ अलग सी उम्मीद जगती है, उम्मीदो पर जब रिश्ते खरे उतरते हैं तो चाहत बढ़ती है, जिस दिन उम्मीद् टूट जाती है, चाहत भी खत्म।

ये अलग बात है कि कुछ लोगो कि जरूरत हमे जिन्दगी भर होती है, और जब तक वो रिश्ता हमारी जरूरतो पर खरा उतरता है, हमारी चाहत जिन्दगी भर बनी रहती है, और कई रिश्ते कुछ महीनो मे टूट जाते हैं।


मेरे ख्याल से ज्यादा हो गया, माफी चाहती हूँ।


बस इतना कहना है कि खुश रहिये, क्यूँकि हमे सबसे ज्यादा अपनी जरूरत होती है, खुद को प्यार किजिये और मस्त रहिये :)"

Popular posts from this blog

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

बाघों की मौत के लिए फिर मोदी होंगे जिम्मेदार?

आशीष महर्षि 
सतपुड़ा से लेकर रणथंभौर के जंगलों से बुरी खबर आ रही है। आखिर जिस बात का डर था, वही हुआ। इतिहास में पहली बार मानसून में भी बाघों के घरों में इंसान टूरिस्ट के रुप में दखल देंगे। ये सब सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए सरकारें कर रही हैं। मप्र से लेकर राजस्थान तक की भाजपा सरकार जंगलों से ज्यादा से ज्यादा कमाई करना चाहती है। इन्हें न तो जंगलों की चिंता है और न ही बाघ की। खबर है कि रणथंभौर के नेशनल पार्क को अब साल भर के लिए खोल दिया जाएगा। इसी तरह सतपुड़ा के जंगलों में स्थित मड़ई में मानसून में भी बफर जोन में टूरिस्ट जा सकेंगे। 
जब राजस्थान के ही सरिस्का से बाघों के पूरी तरह गायब होने की खबर आई थी तो तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सरिस्का पहुंच गए थे। लेकिन क्या आपको याद है कि देश के वजीरेआजम मोदी या राजस्थान की मुखिया वसुंधरा या फिर मप्र के सीएम शिवराज ने कभी भी बाघों के लिए दो शब्द भी बोला हो? लेकिन उनकी सरकारें लगातार एक के बाद एक ऐसे फैसले करती जा रही हैं, जिससे बाघों के अस्तिव के सामने खतरा मंडरा रहा है। चूंकि सरकारें आंकड़ों की बाजीगरी में उस्ताद होती हैं, तो ह…