Skip to main content

बेटी का जन्‍मदिन

उसके चले जाने के बाद मैं थोड़ा निराश था। मुझे इस बात का सपने में भी कभी ख्‍याल नहीं आया कि वो ऐसे अचानक मुझे छोड़कर चली जाएगी। शादी के केवल चार साल ही तो हुए थे। लेकिन वो मुझे और हमारी दो साल की बच्‍ची को हमेशा के लिए छोड़कर जा चुकी थी। बहुत तनाव और पीड़ा के दिन थे वो। शुरुआत में मुझे लगा कि वो वापस आ जाएगी। दूसरे पतियों की तरह मैं भी पत्नियों को अपनी जायदाद समझता था। बात सिर्फ जायदाद तक सीमित नहीं थी। मैंने उसका विश्‍वास भी तोड़ा था। शादी के बाद भी मेरा परुनिशा से मिलना जारी रहा। जिसकी भनक मिलते ही वो मुझे हमेशा के लिए छोड़कर चली गई। मैने कई बार उससे बात भी करनी चाही लेकिन कोई फायदा नहीं। वो बहुत नाराज थी। उसके जाने के बाद मैने भी परुनिशा से मिलना छोड़ दिया और परुनिशा ने भी कहीं और निकाह कर लिया था। अब मैं बिल्‍कुल तन्‍हा और अकेला था। मेरे पास अब सिर्फ मेरी बेटी थी। जिसे मुझे पालना था। मेरी बेटी एकदम अपनी मां पर गई थी। वैसे ही नाक नक्‍शे, वहीं आंखे और वैसे ही मुस्‍कुराना।

आज मेरी बेटी के साथ मेरी बीवी का भी जन्‍मदिन है। मेरी बेटी आज पंद्रह साल की हो गई है। देर तक सोने वाला मैं आज सबसे पहले उठ कर उसके जन्‍मदिन की तैयारी में जुट गया था। पूरे घर को ताजे फूलों से सजा गया था। मेरी बेटी का उपहार उसके बिस्‍तर के किनारे उसके जगने का इंतजार कर रहा था। जब वो सोकर उठी तो सबसे पहले उसकी नजर अपने पास खड़े अपने पापा पर पड़ी यानि मुझ पर। वो बहुत खुश थी। ताजगी से भरी उसकी मुस्‍कान और प्‍यार से गुड मार्निंग, सब कुछ उसकी मां जैसा था। आज वो होती तो कितनी खुश होती। लेकिन वो नहीं थी। वो बहुत पहले ही हम दोनों को छोड़कर चली गई थी।

Comments

बेटी को जन्‍मदिन की शुभकामनाएं।
Mired Mirage said…
अच्छा लिखा है । 'उसके चले जाने के बाद मैं थोड़ा निराश था।' पढ़कर कुछ विचित्र सा भी लगा और मुस्करा भी पड़ी । यदि यही बात एक स्त्री लिखती तो यूँ ना लिखती । वह लिखती , 'I was devastated !' या यूँ ही कुछ ।
घुघूती बासूती
' said…
बच्ची को जन्मदिन पर मेरी ओर से भी ढेरों बधाई
anitakumar said…
क्या ये सच्चाई है या सिर्फ़ एक कहानी, मै तो तुमसे मिल चुकी हूँ तुम किसी भी तरह 15 साल की बेटी के बाप नहीं लगते। खैर अगर सच है तो बेटी को जन्मदिन की बधाई। पत्नी जी की क्या खबर है, वो कहां है आज कल और किस हाल में
mamta said…
लो भाई आपने तो सबको असमंजस मे डाल दिया।ये कहानी है या हकीकत। इस पर से परदा उठाया जाए।

बेटी को जन्मदिन मुबारक।
आशीष said…
यह तो बस कहानी है, जो कि आज ही दिमाग में आई और लिख दी
PD said…
लिखते रहो..
सभी को एक साथ फ़रवरी फ़ूल बना दिये.. :D
बढ़िया लिखा है!!
मुझे नहीं पता था कि तुम इतने कल्‍पनाशील हो

अब

इससे पहले की कहानी से भी तो परिचित कराओ
आशीष भाई। कहानी पहले अधूरी थी। इतनी सारी टिप्पणियों के बाद जा कर कहानी बनी है। किसी ने पोस्ट के नीचे लिखा 'कहानी' पढ़ा ही नहीं।
कथा विधा आजमाने के लिये बधाई।
Rewa said…
OMG! I thought its a true life story...and I was very much sad about daughter coz I thought she must be missing her mom, but after reading others comment got to know that its just a story....nice story and very well written!

rgds,
www.rewa.wordpress.com
Udan Tashtari said…
आशीष,

इसी को तो उम्दा लेखन कहते हैं...तुमको मालूम था क्या??

:)

लिखते रहो...तुम्हें पढ़ना हमेशा सुखकर रहता है. वरना तो देख ही रहे हो अपनी बिरादरी को...बहुत दुख होता हो...ऐसे ही बने रहो, भाई..मेरी शुभकामना और बड़ा होने की वजह से आशीष...जरा मौका लगे तो फोन ईमेल करना...तुमसे बात करने का दिल है...sameer.lal@gmail.com
बहुत मर्मस्पर्शी कथा... ऐसे ही लिखते रहो... मेरी ढेरो शुभकामनाएँ !

Popular posts from this blog

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

बाघों की मौत के लिए फिर मोदी होंगे जिम्मेदार?

आशीष महर्षि 
सतपुड़ा से लेकर रणथंभौर के जंगलों से बुरी खबर आ रही है। आखिर जिस बात का डर था, वही हुआ। इतिहास में पहली बार मानसून में भी बाघों के घरों में इंसान टूरिस्ट के रुप में दखल देंगे। ये सब सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए सरकारें कर रही हैं। मप्र से लेकर राजस्थान तक की भाजपा सरकार जंगलों से ज्यादा से ज्यादा कमाई करना चाहती है। इन्हें न तो जंगलों की चिंता है और न ही बाघ की। खबर है कि रणथंभौर के नेशनल पार्क को अब साल भर के लिए खोल दिया जाएगा। इसी तरह सतपुड़ा के जंगलों में स्थित मड़ई में मानसून में भी बफर जोन में टूरिस्ट जा सकेंगे। 
जब राजस्थान के ही सरिस्का से बाघों के पूरी तरह गायब होने की खबर आई थी तो तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सरिस्का पहुंच गए थे। लेकिन क्या आपको याद है कि देश के वजीरेआजम मोदी या राजस्थान की मुखिया वसुंधरा या फिर मप्र के सीएम शिवराज ने कभी भी बाघों के लिए दो शब्द भी बोला हो? लेकिन उनकी सरकारें लगातार एक के बाद एक ऐसे फैसले करती जा रही हैं, जिससे बाघों के अस्तिव के सामने खतरा मंडरा रहा है। चूंकि सरकारें आंकड़ों की बाजीगरी में उस्ताद होती हैं, तो ह…