Skip to main content

वे लोकतंत्र का अर्थ नहीं जानते हैं

वे लोकतंत्र का अर्थ नहीं जानते हैं, आजादी का नाम तक नहीं सुना हैं. चुनाव का अर्थ इन्हे केवल इतना मालूम हैं की चुनाव एक दिन पहले गाँव का सरपंच आएगा और देसी दारू की थैली पकड़ा कर अपने दल को वोट देने को कहेगा। और वे मान भी जायेंगे। इन गाँव वालों से इस बात से कोई मतलब नही हैं कि उन्हें किस दल को वोट देना हैं और किसे नहीं? उन्हें बस दारू से मतलब हैं। यह तस्वीर देश के सबसे बडे राज्य राजस्थान की हैं।राजस्थान और गुजरात से सटे बांसवाड़ा जिले की यह सच्चाई से मैं उस समय रूबरू हुआ जब मैं अपने एक दोस्त के साथ राजस्थान के चुनाव को कवर कर रहा था। जिला मुख्यालय से मात्र ४० किलोमीटर दूर इस गाँव का नाम हैं चुन्नी खान गाँव। विकास से कोसों दूर इस गाँव में जाने के लिए जंगलों, पहाडियों और नाले को पार कर के ही जाया जा सकता हैं। जबकि मुख्य मार्ग से यह मात्र दो किलोमीटर ही अन्दर हैं। साइकिल तक नहीं जा सकती हैं इस गाँव में। ख़ैर हम किसी तरह इस गाँव में पहुंच ही जाते हैं।पच्चीस परिवारों वाले इस गाँव में पानी के लिए महिलाओं को दो किलोमीटर दूर जाना पड़ता हैं। अस्पताल करीब दस किलोमीटर दूर कलिंजरा कस्बे में है। स्कूल चार किलोमीटर दूर है। यह अलग बात हैं की इस गाँव का एक भी बच्चा स्कूल नहीं जाता हैं।गाँव में खेती बाड़ी कर के अपना और अपने परिवार को पालने वाला कचरा खान कहता है कि हमें चुनाव वुनाव से क्या मतलब। दो रोटी का जुगाड़ हो जाये, वही बहुत हैं। कचरा को लोकतंत्र और आज़ादी के बारें मे कुछ भी नहीं मालूम हैं। यह अलग बात हैं कि हिंदुस्तान आज भी लोकतंत्र को खोज रहा हैं। लेकिन कचरा ने आज तक लोकतंत्र और आज़ादी का नाम तक नहीं सुना हैं।वोट देने के सवाल पर कचरा कहता हैं हम तो पहले अपने और अपने गाँव के विकास के लिए वोट देते थे लेकिन उन्होने शुरू से ही हमें बेवकूफ बनाया हैं।कचरा अपने पांच भाईयों में सबसे छोटा हैं। सत्तर साल के माखिया जो कि कचरा के पिता हैं, बताते हैं उनके एक बेटे की जान केवल इस लिए चली गई क्यों कि अस्पताल ले जाने के लिए कोई साधन नहीं था। माखिया ने बताया कि गाँव के लोग उसके बेटे को किसी तरह चारपाई पर कलिंजरा ले जा रहे थे लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई है।इसी गाँव का बलजीत कहता है कि चुनाव के एक दिन पहले सरपंच आता हैं और दारू बाँट कर हमें किसी एक दल को वोट देने को कहता हैं और हम वोट दे भी देते हैं। बलजीत कहता हैं कि गाँव वाले उसी को वोट देते हैं, जिसका खाते हैं।पंचायत समिति सज्जनगढ़ में पडे वाले इस गाँव में पानी का एक भी स्त्रोत नहीं हैं। इस गाँव ने आज तक बिजली देखी नहीं हैं। जबकि सरकारी कागज़ों में इस गाँव में १९८७ से बिजली हैं।पड़ोस के माचा गाँव जो कि गुजरात जाने वाली सड़क से जुदा हुवा हैं, वहां लंबी कतार देखकर जब हमने गाड़ी से उतर कर पता करने कि कोशिश की तो पता चला हैं पिछले कई दिनों से ये लोग राशन की दुकान खुलने का इन्तजार कर रहे हैं। आज इनका पांचवा दिन था।

Comments

आपका ब्लॉग देखा । बधाई । आपकी रचनाओं की प्रतीक्षा इधर भी रहेगी ।

www.srijangatha.com

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…