Skip to main content

वे लोकतंत्र का अर्थ नहीं जानते हैं

वे लोकतंत्र का अर्थ नहीं जानते हैं, आजादी का नाम तक नहीं सुना हैं. चुनाव का अर्थ इन्हे केवल इतना मालूम हैं की चुनाव एक दिन पहले गाँव का सरपंच आएगा और देसी दारू की थैली पकड़ा कर अपने दल को वोट देने को कहेगा। और वे मान भी जायेंगे। इन गाँव वालों से इस बात से कोई मतलब नही हैं कि उन्हें किस दल को वोट देना हैं और किसे नहीं? उन्हें बस दारू से मतलब हैं। यह तस्वीर देश के सबसे बडे राज्य राजस्थान की हैं।राजस्थान और गुजरात से सटे बांसवाड़ा जिले की यह सच्चाई से मैं उस समय रूबरू हुआ जब मैं अपने एक दोस्त के साथ राजस्थान के चुनाव को कवर कर रहा था। जिला मुख्यालय से मात्र ४० किलोमीटर दूर इस गाँव का नाम हैं चुन्नी खान गाँव। विकास से कोसों दूर इस गाँव में जाने के लिए जंगलों, पहाडियों और नाले को पार कर के ही जाया जा सकता हैं। जबकि मुख्य मार्ग से यह मात्र दो किलोमीटर ही अन्दर हैं। साइकिल तक नहीं जा सकती हैं इस गाँव में। ख़ैर हम किसी तरह इस गाँव में पहुंच ही जाते हैं।पच्चीस परिवारों वाले इस गाँव में पानी के लिए महिलाओं को दो किलोमीटर दूर जाना पड़ता हैं। अस्पताल करीब दस किलोमीटर दूर कलिंजरा कस्बे में है। स्कूल चार किलोमीटर दूर है। यह अलग बात हैं की इस गाँव का एक भी बच्चा स्कूल नहीं जाता हैं।गाँव में खेती बाड़ी कर के अपना और अपने परिवार को पालने वाला कचरा खान कहता है कि हमें चुनाव वुनाव से क्या मतलब। दो रोटी का जुगाड़ हो जाये, वही बहुत हैं। कचरा को लोकतंत्र और आज़ादी के बारें मे कुछ भी नहीं मालूम हैं। यह अलग बात हैं कि हिंदुस्तान आज भी लोकतंत्र को खोज रहा हैं। लेकिन कचरा ने आज तक लोकतंत्र और आज़ादी का नाम तक नहीं सुना हैं।वोट देने के सवाल पर कचरा कहता हैं हम तो पहले अपने और अपने गाँव के विकास के लिए वोट देते थे लेकिन उन्होने शुरू से ही हमें बेवकूफ बनाया हैं।कचरा अपने पांच भाईयों में सबसे छोटा हैं। सत्तर साल के माखिया जो कि कचरा के पिता हैं, बताते हैं उनके एक बेटे की जान केवल इस लिए चली गई क्यों कि अस्पताल ले जाने के लिए कोई साधन नहीं था। माखिया ने बताया कि गाँव के लोग उसके बेटे को किसी तरह चारपाई पर कलिंजरा ले जा रहे थे लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई है।इसी गाँव का बलजीत कहता है कि चुनाव के एक दिन पहले सरपंच आता हैं और दारू बाँट कर हमें किसी एक दल को वोट देने को कहता हैं और हम वोट दे भी देते हैं। बलजीत कहता हैं कि गाँव वाले उसी को वोट देते हैं, जिसका खाते हैं।पंचायत समिति सज्जनगढ़ में पडे वाले इस गाँव में पानी का एक भी स्त्रोत नहीं हैं। इस गाँव ने आज तक बिजली देखी नहीं हैं। जबकि सरकारी कागज़ों में इस गाँव में १९८७ से बिजली हैं।पड़ोस के माचा गाँव जो कि गुजरात जाने वाली सड़क से जुदा हुवा हैं, वहां लंबी कतार देखकर जब हमने गाड़ी से उतर कर पता करने कि कोशिश की तो पता चला हैं पिछले कई दिनों से ये लोग राशन की दुकान खुलने का इन्तजार कर रहे हैं। आज इनका पांचवा दिन था।

Comments

आपका ब्लॉग देखा । बधाई । आपकी रचनाओं की प्रतीक्षा इधर भी रहेगी ।

www.srijangatha.com

Popular posts from this blog

#DigitalGyan : Sarahah के बारे में जानिए सबकुछ

'सराहा' दुनियाभर में तहलका मचाने के बाद अब हिंदुस्तान में छा गया है। जिसे देखिए, वो इसका दीवाना बन चुका है। सऊदी अरब में बनाए गए एप सराहा को दुनियाभर में यूजर्स काफी पसंद कर रहे हैं । करीब एक महीने पहले लॉन्च हुए इस एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है। खास बात यह है कि एप बनाने वाली इस स्टार्टअप को सिर्फ तीन लोग चलाते हैं। इनमें 29 साल के जेन अल-अबीदीन तौफीक और उनके दो दोस्त शामिल हैं।  इस एप के जरिये यूजर अपनी प्रोफाइल से जुड़े किसी भी व्यक्ति को मैसेज भेज सकते हैं। लेकिन सबसे मजेदार यह है कि मैसेज पाने वाले को यह पता नहीं चलेगा कि ये मैसेज किसके पास से आया है। जाहिर है, इसका जवाब भी नहीं दिया जा सकता। और यही कारण है कि ये ऐप लोगों के बीच बहुत तेज़ी से लोकप्रिय होता जा रहा है। सराहा एक अरबी शब्द है, जिसका मतलब ‘ईमानदारी’ होता है। तौफिक ने बताया ‘एप बनाने का मकसद यह है कि इसके जरिये कोई कर्मचारी, बॉस या वरिष्ठ को बिना झिझक अपनी राय दे सके। यूजर किसी व्यक्ति से वो सब कह सकें जो उनके सामने आकर नहीं कह सकते। ऐसा हो सकता है कि वे जो कह रहे हैं उसे सुनना उन्हें अच्छा न ल…

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं?

हम जी रहे हैं। क्यों जी रहे हैं? इसका जवाब कोई नहीं ढूंढना चाहता। दिल और दुनिया के बीच हर इंसान कहीं न कहीं फंसा हुआ है। मौत आपको आकर चूम लेती और हम दिल और दुनिया के बीच में फंसे रहते हैं। बहुत से लोगों को इसका अहसास तक नहीं होता है कि वो क्या करना चाहते थे और क्या कर रहे हैं। बचपन से लेकर जवानी की शुरूअात तक हर कोई एक सपना देखता है। लेकिन पूरी दुनिया आपके इस सपने के साथ खेलती है और ए‍क दिन हम सब दुनिया के बहाव में बहने लगते हैं। जिस दुनिया में हम अपने हिसाब से जीना चाहते हैं, वहां दुनिया के हिसाब से जीने लगते हैं। यह समाज, यह दुनिया आपके अंदर के उस शख्स को मारने के लिए जी जान से लगी रहती है। बहुत कम लोग होते हैं जो अपने हिसाब से, अपनी खुशी के लिए जीते हैं। हर कोई कहीं न कहीं दिल और दुनिया के बीच में फंसा हुआ है। मैं भी फंसा हुअा हूं और आप भी।