Skip to main content

राजस्थान चलो........महारानी साहिबा होश में आइये

ATTACK ON THE FREEDOM OF SOCIAL ACTIVISTS AND MEMBERS OF THE MINORITY COMMUNITY

RAJASTHAN GOVERNMENT BLACK LISTS PEOPLE

Human Chain formed at Ambedkar Circle

Jaipur,
27th September, 2007

Dear friends,

To protest against the Vasundhara Raje Government for blacklisting social activists and minorities in the State, several activists got together in Jaipur at the Ambedkar Circle, formed a human chain and shouted slogans against the attack on people's freedoms on 26th September . More than two hundred people participated. We were not allowed to stop traffic and complete the round of the circle. Police in very large numbers came and stopped us. Since this was not the day of courting arrests we held restraint and instead sang songs and heard people speak against attack on democracy and the terrible Rajasthan Police Bill, 2007 which will replace the 1861 Police Act.

Of the two hundred names of people from all over Rajasthan who are on the list we had managed to get the first nine names which were as follows: Kavita Srivastava, PUCL, Mhd Haroon Rashid, S/o Abdul Rashid, C Scheme, Nisha Sidhu, NFIW, Mhd. Imran s/o Abdul Hamid s/o Abdul Hamid, Subhash Chowk, Ayaz Siddqui, Jaipur, Abid Mhd. S/ o Aziz Ayub, Abdul Majid s/o Abdul Rehman, Dr. Ghiyas Anwar, Mazar Beig.

Of these five of us participated in the protest. As you are aware Nisha Sidhu is the Secretary of the NFIW in Rajasthan and also a national council member of the CPI party. The others who participated included Mhd Haroon Rashid a gem stone dealer, Mhd Imran a electrical technician and Ayaz Siddiqui. All these three are also active with the Jamait-e'-Isami Hind so perhaps the target of the Government. Dr. Ghiyas Anwar is a doctor in the Government. and has nothing to do with politics or the Jamaat or any public position.

The protest also had the participation of Dr. John Dayal, Member National Integration Council, CPI state Secretary Dushyant Ojha, RUWA former President, Laad Kumari Jain, Prem Krishan Sharma, former PUCL President, Harkesh Bugalia of AIICTU, Prakash Chaturvedi from the Univeristy Teachers Union, Sawai Singh from Samgra Sewa Sangh, Than Singh, President of PUCL, Radhaa Kant Saxena vice President of PUCL, and a large number of basti people, helmet sellers, youth and several dalit and PUCL Activists.

We have some other information regarding this list. It is confirmed that it is the State Intelligence list which was taken by the Home Department and passed on to the Rajasthan State Assembly.

Incase you have sent your protest letter to the CM, HM and the Speaker of the Rajasthan State Assembly then please send us a copy of it. Incase you have not sent then please do it now. (Addresses are given below). The Speaker is in Delhi till the 29th of September, 2007. Incase you wish to contact her then she is at the Common Wealth Parliamentary forum and also staying in Rajasthan House on Shahjahan Road – Prithviraj Road, behind Bikaner House

We plan to continue with the protest against the blacklisting of activists and the terrible Rajasthan Police Bill, 2007 in Jaipur and Rajasthan.

The next programme will be on 2nd October, 2007 when a Day long fast has been planned at the Gandhi Statue, Opposite Kanoria College, Jaipur . Protests are also being planned in Ajmer and Alwar by PUCL and other organisations.
Addresses of people whom letters need to be sent:

Ms. Vasundhara Raje, Chief Minster,
Government of Rajasthan, State Secretariat, Jaipur – 302001

Residence: 8, Civil Lines, Jaipur - 302 006.
Office: 0141-2227262, 2227351, 2227687 ( F)
Residence: 0141- 2228712, 2228713, 2228705 ( F)
E. Mail: rajevasundhara@rediffmail.com

You could also go the State Website www.rajasthangov.in See in the menu on the right "messages to CM".

Ms. Sumitra Singh, Speaker, Rajasthan State Assembly, Jaipur

Residence : P-2, Tilak Marg, C-Scheme, Jaipur - 302 005.
91-0141-2385119 (Tel. fax), 2385123 (Residence),
9414056123 (Mobile ) 91-0141-2744321
91-0141-2744333, 2744334 fax

E.mail : rajassembly@nic.in:

Home Minister Gulab Chand Kataria
Office: 0141- 2227362, Residence: 0141- 2229300, mobile: 9414158777
Gulabh Chand Kataria, Home Minister,
Government of Rajasthan, State Secretariat, Jaipur

Comments

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…