Skip to main content

विदर्भ में नहीं थम रहा हैं किसानों की आत्महत्या का दौर

देश के सरकारी खजाने में सबसे अधिक धन देने वाले ही राज्‍य के किसान अधिक आत्‍महत्‍या करने लगें तो यह बड़ी आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले दिनों में उन इलाकों में भी लोग लाल सलाम करते हुए नजर आएंगे जहां सबसे अधिक आत्‍महत्‍या हो रही है। जी हां मैं बात कर रहा हूं महाराष्‍ट्र के विदर्भ इलाके की। जहां केवल इसी साल करीब 784 किसानों ने आत्‍महत्‍या कर ली है। जबकि, पिछले साल प्रधानमंत्री की ओर से जारी भारी भरकम पैकेज के बाद यह आंकड़ा 1648 तक पहुंच गया है। इन इलाकों में किसानों की आत्‍महत्‍या बढ़ने के साथ नक्‍सली हिंसा का खतरा भी बढ़ गया है। हालांकि, दिल्‍ली से मुंबई तक किसी को भी इस बात की भनक नहीं है। लेकिन स्थिति ऐसी ही बन रही। क्‍या हम इस बात से इंकार कर सकते हैं कि जिस प्रकार छत्‍तीसगढ़ जैसे कई राज्‍यों में सरकारी दमन से शोषित किसानों, आदिवासियों और आम आदमी ने हथियार उठाया है, ऐसी स्थिति महाराष्‍ट्र में नहीं बन सकती है।

लेकिन इन बातों से बेखबर देश के कृषि मंत्री शरद पवार से लेकर महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री विलासराव देशमुख का कहना है कि विदर्भ में किसानों की आत्‍महत्‍या कम हुई है। कल जब राज्‍य के दौरे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह आए हुए थे, उसी दिन अकोला के राकेश बंबल समेत पांच किसानों ने आत्‍महत्‍या कर ली। यह आत्‍महत्‍या ऐसे समय में हो रही है जब हमने अभी कुछ दिनों पहले ही देश की आजादी की साठवी सालगिरह यह कहते हुए मनाई है कि हम आज काफी कामयाब देश हैं।

इसे इस देश की बानगी ही कहेंगे कि हम परमाणु सम्‍पन्‍न देश बन चुके हैं, लेकिन आज भी हमारे अन्‍नदाताओं को आत्‍महत्‍या जैसे रास्‍ते पर जाना पड़ रहा है। विदर्भ में किसानों के लिए काम करने वाले किशोर तिवारी कहते हैं कि विदर्भ की स्थिति बहुत खराब है। कपास किसानों के ऊपर बैंकों का भारी दबाव है, जिसके कारण वो आत्‍महत्‍या को मजबूर हैं।

मई 2004 में सत्‍ता में आने के बाद यूपीए के विभिन्‍न दलों ने न्‍यूतम साझा कार्यक्रम बनाया था कि जिसमें कहा गया था कि केंद्र सरकार किसानों, कृषि श्रमिकों तथा कामगारों, विशेषकर असं‍ग‍ठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के कल्‍याण तथा हित साधनों में बढ़ोतरी करना तथा हर तरह से उनके परिवारों के लिए एक सुरक्षित भविष्‍य आश्‍वस्‍त करने का प्रयास करेंगी।


पिछले वर्ष प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र के विदर्भ इलाके का दौरा करने के बाद 37 अरब 50 करोड़ रूपए का एक भारी भरकम राहत पैकेत की धोषणा की थी लेकिन इस राहत पैकेज के बावजूद किसानों की आत्महत्या के मामले सामने आने न सिर्फ केंद्र सरकार के लिए डूब मरने की बात है, बल्कि यह एक सभ्‍य समाज के लिए भी शर्म की बात है, जो आज भी जाति धर्म और पंत के नाम पर मरने मारने पर उतारु हो जाता है।

Comments

Mired Mirage said…
निश्चित ही यह चिन्ता की बात है और बिना समय बर्बाद किये किस कुशल अधिकारी को वहाँ भेजकर कोई न कोई उपाय ढूँढा जाना चाहिये । पैसा देना तो एक अंशकालिक उपाय है ।
घुघूती बासूती
मुआवज़े की घोषणा को ख़बर के तौर पर दिखाना बंद कर दिया जाना चाहिए। इससे नेताओं को सिर्फ अपनी पीठ थपथपाते का मौक़ा मिलता हैं...किसानों की हालत में सुधार नहीं होता।

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…