Skip to main content

जैसे सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

कल देर रात एक गाना सुनते हुए नींद कब लग गई, पता ही नहीं चला। बोल कुछ यूं थे: जिंदगी के सफर में गुजर जाते हैं जो मुकाम वो फिर नहीं आते। इस गाने की कशिश और जिंदगी का फलसफा बयान करने की तासीर अद्भुत है।

आपकी कसम फिल्म के इस गाने को याद कीजिए। राजेश खन्ना का चेहरा उस दर्द की दास्तान बन जाता है, जिससे हम और आप इस भागती दुनिया में चाहे-अनचाहे कभी न कभी रूबरू होते हैं। मौके पर अपनी बात न कह पाने का दर्द।

अपनी विगत जिंदगी पर नजर डालिए, आपको भी कभी न कभी किसी से कोई बात न कह पाने का गम आज भी सालता होगा। गाहेबगाहे वो दर्द किसी भी रूप में आज भी छलक आता होगा। लेकिन गुजरा मुकाम कभी लौटकर नहीं आता, हम ताकते रह जाते हैं। इस गाने का संदेश यही है। वक्त पर अपनी बात रख दीजिए, अन्यथा पछताते रहिए।

यह गाना आपकी और मेरी जिंदगी की एक सच्चई से रूबरू करवाता है। इसे हम मानें या नहीं, लेकिन यह सच है। जिंदगी के सफर में कई लोग आते हैं और चले जाते हैं, लेकिन जिंदगी पूरी रफ्तार के साथ चलती रहती है। यदि जिंदगी थम गई तो समझिए आप थम गए।

जो लोग हमसे बिछुड़ जाते हैं, उनकी सिर्फ यादें रह जाती हैं। लेकिन कई बार मिलने-बिछड़ने के इस खेल में हम ऐसी गलतियां कर जाते हैं, जो हमें जिंदगी भर पछताने के लिए छोड़ जाती हैं। वक्त की मार सबसे बेरहम होती है लेकिन वक्त ही मरहम भी लगाता है।

जैसे-जैसे समय गुजरता है, बिछड़े लोग और शिद्दत से याद आते हैं। दर्द कुछ कम होता है, लेकिन जिंदगी में कई बार ऐसे मोड़ आते हैं, जब यादों के बायोस्कोप की चलती-फिरती तस्वीरें हमारी आंखें के आगे तैरने लगती हैं। यह कोई भी हो सकता है।

यह आपके स्कूल की कोई टीचर हो सकती है, यह बचपन में आपके पड़ोस में रहने वाले रतन चाचा हो सकते हैं, यह परदेश में आपके लिए रोज नाश्ते-खाने का इंतजाम करने वाले शेख साहब हो सकते हैं या फिर वह आपका कोई दोस्त भी हो सकता है।

भारतीय दर्शन में मिलने-बिछुड़ने के लिए नदी-नाव संयोग जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया है। यह कुछ इस तरह है, जैसे एक नदी बह रही है। आप अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए नाव का सहारा लेते हैं और संयोग से आप इस नाव में कई लोगों से मिलते हैं। लेकिन मंजिल तक पहुंचने के बाद सबके रास्ते जुदा हो जाते हैं।

स्कूल के दिनों में कई दोस्त बने। जिंदगी को जीने लायक बनाने वाले शिक्षक मिले। लेकिन कॉलेज में आने के बाद स्कूल के दोस्त और सभी टीचर बिछुड़ गए। बचे सिर्फ कुछ ही। इसी तरह जब पत्रकारिता में आया तो कॉलेज के दोस्त भी बिछुड़ गए। लेकिन इस बार इनका बिछुड़ना इतना तकलीफ दायक नहीं था। क्योंकि जिंदगी ने दुनियादारी सिखा दी थी।

अक्सर हम जब ट्रेन और बसों में सफर करते हैं तो कई लोग हमारे सफर को आसान बना देते हैं। हाय-हैलो से शुरू हुई बात कई बार फोन नंबर के लेन-देन पर खत्म होती है। अक्सर सफर के मुसाफिर जिंदगी में नहीं मिल पाते हैं।

ऐसे न जाने कितने सफर की यादें जेहन में कुलबुला रही हैं। चाहे वह बनारस से अहमदाबाद का खूबसूरत सफर हो या मुंबई से दिल्ली तक राजधानी के सफर की मीठी यादें, आजमगढ़ के स्कूल में साथ पढ़ने वाले रुस्तम, अविनाश, दीपमाला हो या फिर अलवर के राजर्षि कॉलेज के पुराने दोस्त, जो अलवर छोड़ने के बाद आज तक नहीं मिल पाए।

वक्त बीता, यादें धुंधली पड़ती गईं लेकिन आज अचानक मैं अतीत में चला गया। जाते-जाते आपके लिए और खुद के लिए बस ये पंक्तियां: अब के बिछड़ें तो शायद ख्वाबों में मिलें, जैसे सूखे हुए फूल किताबों में मिलें। - दैनिक भास्कर, 17 जून 2011

Comments

achchha lagaa aapke views jaan kar ...aur ye sach bhi hai ...vo mukaam fir nahi aate ...
Neeloo said…
Excellent article!!! B+ like this article... Aapki khushiyon ki Kamna sada karte hain... Keep writing like this!!!

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…