Skip to main content

अब सबसे खतरनाक होता है सपनों का अधूरे रह जाना

कल रात पाश मेरे सपने में आए
मुझे जगाया और फिर जोर-जोर से चिल्लाए
सबसे खतरनाक होता है हमारे सपना का मर जाना
सबसे खतरनाक होता है हमारे सपना का मर जाना

मैंने सोती आंखों से उन्हें चुप कराया
कहा, बंद कीजिए अपनी बकवास
अब जमाना बदल चुका है, सपनों का कोई मोल नहीं
अब सबसे खतरनाक होता है सपनों का अधूरा रह जाना

पाश फिर भी नहीं झुके, मैं भी झुकने को तैयार नहीं
बहस पूरे शबाब पर थी

उन्होंने मेरी कालर पकड़ी और कहा
सपनों को मत मरने दो.

मैंने भी कहा, कैसे सपने जो अधूरे रह जाते हैं
जो हकीकत बनने से पहले टूट-टूट कर बिखर जाते हैं

Comments

मेरा भी विचार है कि सपने को कभी मरने न दो ...टूटे बिखरे सपनो को फिर भी जोड़ा जा सकता है लेकिन अगर मर गए तो ......फिर से ज़िन्दा कहाँ कर पाएँगे !!!!!
अधूरे सपने यही बताते हैं कि उन्हें पूरा करने का प्रयास पूरे मन से नहीं किया गया...कहीं ना कहीं कोई कमी रह गई....
मै भी आजकल या कहें की हर मौसम में यह सोचता हूँ की आखिर कब तक मै आपने सपनो के पीछे भागता रहूँगा. जो आज तक १% भी पूरे नहीं हुए. अब आधा बुडापा आ चूका है. लेकिन जब मै उन लोगो को देखता हूँ जो केवल अपनी अजीबिका चलने के लिए मजदूरी करते है. तो मै सोचता हूँ. की मै उनसे बेहतर स्तिथि में हूँ. ये सपने मन के आसमान में वेबक्त बादलों की तरह छा जातें हैं. और मन बेचैन होने लगता है. और इन बादलों या कहें कि इन सपनों को रोकना मुस्किल हो जाता है.
मै भी आजकल या कहें की हर मौसम में यह सोचता हूँ की आखिर कब तक मै आपने सपनो के पीछे भागता रहूँगा. जो आज तक १% भी पूरे नहीं हुए. अब आधा बुडापा आ चूका है. लेकिन जब मै उन लोगो को देखता हूँ जो केवल अपनी अजीबिका चलने के लिए मजदूरी करते है. तो मै सोचता हूँ. की मै उनसे बेहतर स्तिथि में हूँ. ये सपने मन के आसमान में वेबक्त बादलों की तरह छा जातें हैं. और मन बेचैन होने लगता है. और इन बादलों या कहें कि इन सपनों को रोकना मुस्किल हो जाता है.
Sharbani said…
Bahut acchi abhivyakti hai... sapno ka marna aur unka adhoora reh jana dono hi accha nahi hai... jab hamare sapne adhoore reh jaate hain.. to dheere dheere we mar bhi jate hain... Unhe Zinda rakhne ke liye, unhe poora karne ki shiddat se koshish jaari rakhni chahiye.. Ya phir aisa sapna dekhna chahiye jisse poora karne ka madda ho...
Mahi S said…
सपनों का मतलब ही शायद आधुरापन है...
nice read

Popular posts from this blog

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है

दोस्ती और विश्वासघात में अन्तर होता है
यह तो सब जानते हैं
मैं भी और आप भी
लेकिन इसे क्या कहेंगे आप
जब आपका सबसे प्यारा दोस्त
आपके साथ वो करे
जो दुश्मन भी नहीं करता है
जी हाँ मैं अपने सबसे प्यारे दोस्त की बात कर रहा हूँ
मैंने उसकी दोस्ती को इबारत समझा
और उसने हर मोड़ पर मुझे ठगा
मैं आज भी उसपर विश्वास करना चाहता हूँ
लेकिन करूँ या नहीं करूँ
अजीब सी उलझन है

सेक्‍स बनाम सेक्‍स शिक्षा

बहस जारी है सेक्स शिक्षा पर। कुछ लोग साथ हैं तो कुछ लोग विरोध में खड़े हैं। सामने खड़े लोगों का कहना है कि इससे हमारी संस्‍कृति को खतरा है। युवा पीढ़ी अपने राह से भटक सकती है। मैं भी एक युवा हूं, उम्र चौब्‍बीस साल की है। लेकिन मुझे नहीं लगता है कि सेक्‍स शिक्षा से हम अपनी राह से भटक सकते हैं। तो वो कौन होते हैं जो हमारे जैसे और हमारे बाद की पीढि़यों के लिए यह निर्धारित करेंगे कि हम क्‍या पढ़े और क्‍या नहीं। रवीश जी ने अपने लेख में सही ही लिखा है कि सेक्स शिक्षा से हम हर दिन दो चार होते रहते हैं । चौराहे पर लगे और टीवी में दिखाये जाने वाले एड्स विरोधी विज्ञापन किसी न किसी रूप में सेक्स शिक्षा ही तो दे रहे हैं । फिर विरोध कैसा । सेक्स संकट में है । देश नहीं है । समाज नहीं है । इसके लिए शिक्षा ज़रुरी है ।

लेकिन यह हमारा दोगलापन ही है कि हम घर की छतों और तकियों के नीचे बाबा मस्‍तराम और प्‍ले बाय जैसी किताबें रख सकते हैं लेकिन जब इस पर बात करने की आएगी तो हमारी जुबां बंद हो जाती है। हम दुनियाभर की बात कर सकते हैं, नेट से लेकर दरियागंज तक के फुटपाथ पर वो साहित्‍य तलाश सकते हैं जिसे हमारा सम…

चारों ओर कब्र, बीच में दुनिया का इकलौता शिव मंदिर

Ashish Maharishi
वाराणसी। दुनिया के सबसे पुराने शहरों में शुमार बनारस के बारे में मान्यता है कि यहां मरने वालों को महादेव तारक मंत्र देते हैं, जिससे मोक्ष लेने वाला कभी भी दोबारा गर्भ में नहीं पहुंचता। इसी बनारस में एक ऐसा मंदिर भी है जो कब्रिस्तान के बीचोंबीच है। ओंकारेश्वर महादेव मंदिर भले ही हजारों साल पुराना हो, लेकिन बनारस के स्थानीय लोगों को भी इसके बारे में बहुत कम जानकारी है।
मंदिर के पुजारी शिवदत्त पांडेया के अनुसार, "काशी खंड में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। ये मंदिर करीब पांच हजार साल पुराना है। यहां दर्शन से अश्वमेघ यज्ञ का फल मिलता है, तीर्थ माना गया है लेकिन आज कभी कोई भूला-बिसरा यहां दर्शन करने आ जाता है। वरना ये मंदिर हमेशा सुनसान ही रहता है।"

स्कंद पुराण में ओंकारेश्वर महादेव का जिक्र है। इस पुराण के अनुसार, काशी में जब ब्रह्मा जी ने हजारों साल तक भगवान शिव की तपस्या की, तो शिव ने ओंकार रूप में प्रकट होकर वर दिया और इसी महालिंग में लीन हो गए।
ग्रंथों के मुताबिक, एक विशेष दिन सभी तीर्थ ओंकारेश्वर दर्शन के लिए आते हैं। लेकिन इस मंदिर से जिला प्रशासन और सरकार दोन…